गोवा में छाया ऑक्सीजन संकट, 4 दिनों में 74 मरीजों की मौत

गोवा: गोवा के सबसे बड़े मेडिकल फैसिलिटी गोवा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में पिछले 4 दिनों में 74 मरीजोंं की मौत हो गई है. इस मामले में मिली जानकारी के तहत कथित रूप से ये सारी मौतें मेडिकल ऑक्सीजन की कमी से हुई हैं. आप सभी को हम यह भी जानकारी दे दें कि अकेले बीते गुरुवार की रात को ही गोवा के अस्पतालों में ऑक्सीजन सप्लाई रुकने से 13 मरीजों की मौत हुई है. बताया जा रहा है यह लापरवाही उस दौरान हुई है, जब हाइकोर्ट ने ऑक्सीजन संकट को लेकर राज्य सरकार को चेताया था.

जी दरअसल, राज्य सरकार की तरफ से यह बताया गया था कि ऑक्सीजन की कमी नहीं है, लेकिन रीफिलिंग के लिए लॉजिस्टिक्स की कमी है. यह जानने के बाद अदालत ने सख्त टिप्पणी करते हुए यह कहा था कि 'हम तकनीकी और लॉजिस्टिक मुद्दों के कारण लोगों को मरने के लिए नहीं छोड़ सकते हैं, जो भी समस्या है ठीक करें और इस बात का ख़याल रखें कि आज रात ऑक्सीजन की कमी से कोई मौत न हो.' यह सब होने के बाद भी उसी रात 13 मरीजों की मौत कई सवाल खड़े कर रही है.

अब कोर्ट ने अस्पतालों और राज्य प्रशासन से आज शाम 7 बजे तक एक स्टेटस रिपोर्ट फाइल करने को कहा है. कहा जा रहा है इसमें ऑक्सीजन सप्लाई, टैंकों, कॉन्सन्ट्रेटर्स और ड्राइवर्स की उपलब्धता को लेकर जानकारी देनी होगी. आप सभी को हम यह भी बता दें कि गोवा में अभी पॉजिटिविटी रेट 48.1 फीसदी है, यानी यहां हर दूसरा टेस्ट कोविड पॉजिटिव निकल रहा है. बीते दिनों ही गोवा के पूर्व मुख्यमंत्री विजय सरदेसाई ने बताया कि, ''शुक्रवार को रात 1 बजे से सुबह 6 बजे के बीच में 13 लोग, गुरुवार की सुबह को 15, बुधवार को 20 और मंगलवार को रात 2 बजे से सुबह 6 बजे के बीच 26 लोगों की मौत हुई है.'' वही दूसरी तरफ मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत इस हफ्ते अस्पताल के दौरे पर भी आए थे. उस दौरान उन्होंने कहा था कि 'मेडिकल ऑक्सीजन की उपलब्धता और सप्लाई के बीच आए अंतराल के चलते कुछ समस्याएं पैदा हुई हो सकती हैं.'

यूपी में तेजी से बढ़ रहा घटनाओं का सिलसिला, तेज स्पीड में बाइक की हुई टक्कर

इंदौर में बढ़ रहा ब्लैक फंगस इंफेक्शन, 200 से अधिक लोग पीड़ित!

आज तीसरी बार नेपाल के पीएम पद की शपथ लेंगे ओली, बहुमत साबित करने में नाकाम रहा विपक्ष

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -