कॉलेजों में अब नई तकनीकों के जरिए लिया जा सकेगा प्रवेश

Aug 02 2020 05:14 PM
कॉलेजों में अब नई तकनीकों के जरिए लिया जा सकेगा प्रवेश

चंडीगढ़: तकनीकी शिक्षा मंत्री अनिल विज ने मंत्रालय द्वारा 2020-21 हेतु इंजीनियरिंग डिग्री एवं डिप्लोमा कोर्स हेतु शुरू की गई ऑनलाइन प्रवेश प्रक्रिया का उद्घाटन किया. जिससे विद्यार्थियों को घर बैठे ही इन विषयों में अपना दाखिल करवाने का अवसर दिया जाने वाला है. विज का कहना है कि कोरोना वायरस की वजह से उत्पन्न परिस्थितियों के चलते जहां फिलहाल छात्र-छात्राओं को विभिन्न संस्थानों में जाकर दाखिला प्रक्रिया को पूर्ण करना मुश्किल होता जा रहा है, वहीं बिना मूल प्रमाण पत्रों के उनके प्रमाणपत्र सत्यापन भी संभव नहीं है.

इस स्थिति को सरल बनाने हेतु राज्य तकनीकी शिक्षा विभाग ने राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र हरियाणा की सहायता से एक विशेष सॉफ्टवेयर तैयार किया है. जिसका प्रयोग इस बार प्रवेश प्रक्रिया के लिए किया जाने वाला है. यह सॉफ्टवेयर न सिर्फ ऑनलाइन प्रार्थनापत्र स्वीकार कर लिए जाएगा. अपितु डिजी लॉकर की सहायता से उनके प्रमाणपत्रों का सत्यापन भी करना पड़ेगा. जिससे विद्यार्थियों को भौतिक रूप से उपस्थिति ना होने पर भी उनके लिए प्रवेश लेना संभव होगा. तकनीकी शिक्षा मंत्री ने कहा कि हरियाणा में वर्तमान में 37 राजकीय बहुतकनीकी संस्थान हैं तथा 4 सहायता प्राप्त संस्थान है, जिनमे 36 विभिन्न ट्रेडों में डिप्लोमा पाठ्यक्रम जारी कर दिए गए हैं.

36 ट्रेड, 3 हजार 131 सीटें और वोकेशन डिप्लोमा की 810 सीटें: तकनीकी शिक्षा मंत्रालय हरियाणा द्वारा इंजीनियरिंग डिग्री एवं डिप्लोमा कोर्स हेतु ऑनलाइन दाखिला प्रक्रिया का शुरू कर दिया गया. इसका शुभांरभ तकनीकी शिक्षा मंत्री अनिल विज ने किया. अब हरियाणा में वर्तमान में 37 राजकीय बहुतकनीकी संस्थान के साथ 4 सहायता प्राप्त संस्थान में प्रवेश  प्रक्रिया शुरू हो गई है. जिसमें 36 विभिन्न ट्रेडों के डिप्लोमा के साथ ही इंजीनियरिंग डिप्लोमा की 13131 सीटें तथा वोकेशनल डिप्लोमा कोर्स की 810 सीटें पर प्रवेश दिया जाने वाला है.  जिसके अतिरिक्त 151 स्व वित्तपोषित संस्थान में भी इंजीनियरिंग डिप्लोमा की लगभग 26000 सीटें पर प्रवेश होगा.

सीएम गहलोत बोले- सभी मुख्यमंत्रियों के साथ कम से कम दो दिन बैठक करें पीएम मोदी

प्रयागराज में मिले कोरोना के 141 नए मरीज, दो की मौत

सीएम गहलोत बोले- सभी मुख्यमंत्रियों के साथ कम से कम दो दिन बैठक करें पीएम मोदी