नेशनल न्यूट्रीशन वीक पर बढ़ाये एक कदम इस ओर

ऐसा कहते है भारत ऐसा देश है जहां मेहमान को भगवान मान कर उसका स्वागत किया जाता है. किसी भी मेहमान को बिना खाना खिलाएं नहीं भेजा जाता है. किन्तु विचारणीय यह है कि भारत की आज सबसे प्रमुख समस्या कुपोषण है. हम मेहमानो को खाना खिलाते है मगर हमारे खुद के ही देश में लाखो-करोड़ो लोग भूखे सो जाते है. नेशनल न्यूट्रीशन वीक के मौके पर आज हम पोषण के साथ-साथ चर्चा करेंगे कुपोषण के बारे में. पोषण तब ही पूरा हो सकेगा, जब कुपोषण इस देश और हमारे आसपास से दूर हो जाएगा. पोषण को लेके आज बहुत बातें की जाती है, स्वास्थ्य को ले कर जागरूक किया जाता है, किन्तु दूसरी ओर हम खाना वेस्ट कर उसे फेंक देते है.

भगवान का शुक्रिया अदा किया जाता है कि हमे आज अन्न नसीब हुआ. किन्तु उसकी कद्र न करते हुए हम कई बार रेस्त्रो में या घर में ही खाना बेकार कर देते है ओर उन्हें फेंक देते है. क्या खाना फेंकते समय आप ये सोचते है कि जो सब्जी और रोटी हम फेंक रहे है, उसकी फसल के लिए एक किसान को कितनी समस्याओं का मुकाबला करना होता होगा. हम कभी नहीं सोचते है कि सब्जी और गेंहू या कोई अनाज जिससे हम रोटी बनाते है, उसकी फसल के लिए किसान को कितनी मेहनत-मशक्क्त करना होती है. आज देश में किसान बहुत परेशान है, किसान खेती छोड़ रहे है और आज के समय में कई लोग इस क्षेत्र से पलायन कर रहे है. ऐसा लगातार रहा तो हमें अन्न और सब्जी नसीब नहीं होगी. हम रेस्त्रो जाते है, वहां बहुत मात्रा में खाना आर्डर कर देते है, जिसे बाद में हम थोड़ा बहुत खा कर छोड़ देते है, जिसे नतीजन फेंका जाता है. जबकि बाहर सड़क पर कई लोग ऐसे भी होते यही जो भीख मांगते है या अपनी किसी झोपड़ी के कोने में छुप कर खाने के लिए तड़प रहे होंगे. ऐसी स्थिति में भूख को मिटाने के लिए कई लोग चोरी-चकारी करते है जिसके तहत सिर्फ और सिर्फ अपराध बढ़ते है.

हमें इस तरह खाना व्यर्थ न फेंक कर उसे किसी जरूरतमंद को दे देना चाहिए. जिससे किसान की मेहनत सफल हो सके. संयुक्त राष्ट्र का इस बारे में कहना है कि भारत में हर साल कुपोषण के कारण दस लाख से भी अधिक पांच साल से कम उम्र वाले बच्चो की मृत्यु हो जाती है. भारत कुपोषण के मामले में सबसे बुरी स्थिति में है. नेशनल न्यूट्रिशन वीक पर आइये हम संकल्प करते है, खाना व्यर्थ न फेंकते हुए जरूरतमंद को देंगे.

ये भी पढ़े 

कैसे जाने कि आपकी सहेली हो गई है आपके बॉयफ्रेंड पर फ़िदा

लड़कियां ये बातें लड़कों से करने में झिझकती है

यदि गर्लफ्रेंड को ले जा रहे है घर तो रखे इस बात का ध्यान

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -