कोरोना के हल्के लक्षण के बाद 10 में से एक भुगतता है दीर्घकालिक प्रभाव: अध्ययन

कोरोना के हल्के लक्षण के बाद 10 में से एक भुगतता है दीर्घकालिक प्रभाव: अध्ययन

दस में से एक व्यक्ति कम से कम एक मध्यम से गंभीर लक्षण का अनुभव करता है जो कि उनके काम, सामाजिक या व्यक्तिगत जीवन पर नकारात्मक प्रभाव डालता है। जर्नल ऑफ द अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन में प्रकाशित अध्ययन में पाया गया कि सबसे आम दीर्घकालिक लक्षण गंध और स्वाद और थकान के नुकसान हैं। स्वीडन के डैंडरिड अस्पताल और कारोलिंस्का इंस्टीट्यूट के शोधकर्ताओं ने पिछले साल वसंत के बाद से तथाकथित संचार अध्ययन किया है, जिसका मुख्य उद्देश्य COVID-19 के बाद प्रतिरक्षा की जांच करना है। 

शार्लोट टेरिन ने कहा, हमने एक अपेक्षाकृत युवा और स्वस्थ व्यक्तियों के काम करने वाले समूह में हल्के कोरोना के बाद दीर्घकालिक लक्षणों की उपस्थिति की जांच की, और हमने पाया कि प्रमुख दीर्घकालिक लक्षण गंध और स्वाद के नुकसान हैं। थैलिन ने कहा, थकान और सांस की समस्या उन प्रतिभागियों में भी अधिक पाई जाती है, जिन्हें कोरोना होता है, लेकिन यह उसी सीमा तक नहीं होता है। 

अध्ययन के पहले चरण में, डैंडरीड अस्पताल में 2,149 कर्मचारियों से रक्त के नमूने एकत्र किए गए थे, जिनमें से लगभग 19 प्रतिशत में SARS-CoV-2 के खिलाफ एंटीबॉडी थे। शोधकर्ताओं ने हर चार महीने में रक्त के नमूने एकत्र किए, और अध्ययन प्रतिभागियों ने लंबी अवधि के लक्षणों और जीवन की गुणवत्ता पर उनके प्रभाव के बारे में प्रश्नावली का जवाब दिया। उन्होंने कहा कि सबसे आम दीर्घकालिक लक्षण गंध और स्वाद, थकान और श्वसन समस्याओं के नुकसान थे।

अध्ययन में पाया गया है कि जिन लोगों ने मॉडर्न वैक्सीन लगवाई है, उनमे फाइजर/बायोनटेक की तुलना में अधिक दुष्प्रभाव

खुराक की कमी के की वजह से हमें लोगों को वापस भेजना पड़ रहा है: स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री राजेश टोपे

तेलंगाना में अभी भी नियंत्रण में है कोरोना की दूसरी लहर: स्वास्थ्य मंत्री