कराधान हुआ अतीत, एक अरब डॉलर का सालाना निवेश करेगा फ़्रांस : मोदी

Jan 25 2016 10:38 AM
कराधान हुआ अतीत, एक अरब डॉलर का सालाना निवेश करेगा फ़्रांस : मोदी

नई दिल्ली : देश में निवेशकों को ध्यान में रखते हुए हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह घोषणा की कि कराधान की विवादास्पद व्यवस्था देश में अब बीते हुए जमाने की बात हो गई है. और इसके साथ ही इस मामले को देश में अब वापस नहीं खोला जाना है क्योकि सरकार के द्वारा देश में कर व्यवस्था को लेकर काम किया जा रहा है. इसके साथ ही मोदी ने जानकारी देते हुए यह भी कहा है कि फ्रांस के द्वारा देश में एक अरब डॉलर का तत्काल निवेश वार्षिक तौर पर किया जाना है जिसे बाद में बढ़ा दिया जाना है. गौरतलब है कि भारत और फ़्रांस के बीच 16 अहम समझौतों को लेकर करार भी किया गया है. बता दे कि इस समझौते के लिए यहाँ फ़्रांस के राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद भी उपस्थित थे.

इन समझौतों में हेलीकाप्टर समझौते को काफी अहम माना जा रहा है. कहा जा रहा है कि यह समझोता मेक इन इंडिया अभियान के तहत ही माना जा रहा है. इस मामले में अधिकारियो को सम्भोधित करते हुए नरेंद्र मोदी ने यह भी कहा है कि इससे यह स्पष्ट होना है कि विदेशी देश में आने वाले 15 सालों तक की कर प्रणाली को लेकर स्पष्ट रहें. इसके साथ ही मोदी ने यह भी कहा है कि वे भरोसेमंद काराधान प्रणाली के साथ ही स्थिर व्यवस्था को लेकर भी पक्ष में हूँ. बता दे कि मोदी ने भारत-फांस व्यापार शिखर सम्मेलन के दौरान यह बात कही है कि पिछली तारीख से कराधान एक बीती बात जैसी हो गई है.

उन्होंने आगे की जानकारी देते हुए यह भी कहा है कि हमारे देश में जो कोई भी निवेश को लेकर आगे आ रहा है उसे देश में आने वाले 5 साल, 10 साल और 15 साल की कराधान प्रणाली के बारे ने पूरी जानकारी होना जरुरी है. इसके साथ ही यह बात भी सामने आई है कि आईटी कानून में संशोधन ब्रिटिश दूरसंचार कंपनी वोडाफोन की कर देयता के मामले में उच्चतम न्यायालय के फैसले को अप्रभावी करने के लिए लाया गया है जोकि करीब 11,000 करोड़ रूपये की थी. मोदी ने मामले में जानकारी देते हुए यह भी बताया है कि खुद फ्रांसीसी राष्ट्रपति ओलांद ने उन्हें यह कहा है कि फ़्रांस के द्वारा भारत में तत्काल रूप से एक अरब डॉलर का निवेश वार्षिक तौर पर किया जाना है. जबकि साथ ही जानकारी में यह बात भी सामने आई है कि बाद में इस राशि को बढ़ा दिया जाना है.