Good News: इस दवाई को लेने से ठीक हो रहा ओमिक्रॉन संक्रमण, संक्रमित डॉक्टर ने किया खुलासा!

नई दिल्ली: कोरोना वायरस (Coronavirus) के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन (Omicron In India) को लेकर पूरी दुनिया डरी-सहमी हुई है। सभी के बीच इस समय तीसरी लहर को लेकर डर बना हुआ है और कोई भी यह नहीं चाहता कि कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर आए। आप सभी जानते ही होंगे ओमिक्रॉन ने भारत में भी दस्तक दे दी है। जी दरअसल इसी हफ्ते कर्नाटक से ओमिक्रॉन के दो नए मामले सामने आए हैं। इस लिस्ट से एक 46 साल के डॉक्टर भी हैं, जिन्हे ओमिक्रॉन संक्रमण हुआ था, हालाँकि अभी संक्रमित डॉक्टर ठीक हैं।

हाल ही में उन्होंने खुद यह कहा है कि उन्हें कोई ज्यादा परेशानी नहीं हो रही है। लक्षण से लेकर इलाज तक के बारे में डॉक्टर ने जानकारी दी। जी दरअसल संक्रमित डॉक्टर ने एक अंग्रेजी अखबार से बात करते हुए बताया, 'बीमारी से ज्यादा दर्दनाक घर में बंद रहना है। जैसे ही मुझे पता चला कि मैं कोरोना से संक्रमित हूँ, मैंने सबसे पहले खुद को क्वारंटीन किया। मेरी पत्नी और बच्चे भी क्वारंटीन हो गए।' आगे उन्होंने ओमिक्रॉन के लक्षणों के बारे में कहा, 'मेरे शरीर में काफी तेज़ दर्ज हो रहा था। मुझे हल्का बुखार था, लेकिन सांस लेने में कोई तकलीफ नहीं हुई। मेरा ऑक्सीजन लेवल भी लगातार नॉर्मल रहा। 21 नवंबर से मुझे बुखार लगना शुरू हुआ और अगले दिन ही मैंने आरटी-पीसीआर टेस्ट के लिए अपने स्वैब के सैंपल दिए। मुझे जुकाम नहीं था। साथ ही मुझे सिर्फ 100 डिग्री फ़ारेनहाइट तक बुखार हुआ।'

इसी के साथ उन्होंने बताया, संक्रमित पाए जाने के बाद पहले दिन वह घर में रहे। इसके बाद उन्होंने खुद को एक प्राइवेट हॉस्पिटल में भर्ती कराने का फैसला किया। इसी के साथ उन्होंने बताया, '25 नवंबर को मुझे मोनोक्लोनल एंटीबॉडीज की डोज दी गई। इसका मुझे काफी फायदा हुआ। अगले दिन मेरे में कोरोना का कोई लक्षण नहीं था।' डॉक्टर ओमिक्रॉन से संक्रमित है और अभी उनकी हालत ठीक है।

बेंगलुरु में एक डॉक्टर ओमीक्रॉन से संक्रमित

5 साल से छोटे बच्चों को शिकार बना रहा है ओमिक्रॉन वैरिएंट! वैज्ञानिकों ने दिया चौंकाने वाला बयान

पश्चिम बंगाल ने लगाई 7 दिन की आइसोलेशन पीरियड, आरटी-पीसीआर टेस्टिंग जारी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -