56 सालों से चाय बेचकर 23 देशों की यात्रा कर चुका है यह कपल

बुढ़ापा आता है तो लोगों के हाथ-पैर काम करना बंद कर देते हैं। ऐसे में कुछ लोग ऐसे होते हैं जो बिस्तर पकड़ लेते हैं लेकिन कुछ ऐसे भी होते हैं जो काम करते रहते हैं। कहा जाता है अगर काम करते रहे तो बुढ़ापे में भी हाथ-पैर में उतनी ही ताकत होती है जितनी जवानी के दिनों में होती है। वैसे यह बात तो सच है अगर हम हमेशा मेहनत करते रहे तो बुढ़ापे में ना खाने-पीने की परेशानी होती है न चलने फिरने की। 60 की उम्र के बाद लोगों को देखा जाए तो वह काम करना छोड़कर घर में बैठ जाते हैं लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हैं जो इस उम्र में भी काम करते हैं और अपना जीवन व्यतीत करते हैं। आज हम आपको एक ऐसे ही कपल के बारे में बताने जा रहे हैं जो 66 साल के हैं लेकिन उनकी मेहनत गजब है और उनकी मेहनत से उन्होंने जो किया है वह भी सराहनीय है।

कौन है कपल- यह कपल केरल का है और इनका नाम है विजयन और उनकी पत्नी मोहना। यह कपल बुढ़ापे के समय में भी काम कर रहा है और उसी काम के बदौलत यह कपल अब तक 23 देशों की यात्राएं कर चुका है। यह सुनकर आपको अजीब जरूर लग रहा होगा लेकिन यह सच है। कपल के काम के बारे में बात करें तो कपल चाय बेचता है। जी हाँ, चाय बेचकर कपल ने अब तक 23 देशों की यात्राएं कर डाली है। विजयन कोच्चि में रहते हैं और वह करीब 55 से 56 सालों से चाय बेचकर गुजारा कर रहे हैं। दोनों की शादी को अब तक 46 साल हो चुके हैं और दोनों ने अपनी मेहनत से पूरी दुनिया में पहचान बनाई है। इस कपल का सपना था कि दुनिया घूमी जाए। इस सपने को पूरा करने के लिए कपल ने साल 1963 में चाय बेचना शुरू किया। चाय बेचने का काम कपल ने सड़क किनारे शुरू किया और यही उनकी कमाई का एकमात्र जरिया रहा।

अच्छा नहीं रहा विजयन का बचपन- जब विजयन छोटे थे तो उन्हें वो सुख-सुविधाएं नहीं मिली जो एक अमीर बच्चे को मिलती है क्योंकि विजयन का जन्म एक सामान्य वर्गीय परिवार में हुआ था। विजयन ने केरल के कई मंदिर घूमे और इस दौरान उनके पिता उनके साथ रहे। विजयन को यही से घूमने-फिरने का चस्का लगा। वह घूमने-फिरने के शौकीन बन गए लेकिन घर की जिम्मेदारियों के चलते वह ऐसा कर ना सके। जी दरअसल विजयन के पिता की मौत हो गई और उसके बाद उनके परिवार की जिम्मेदारी उनपर आ गई। परिवार की जिम्मेदारियों को निभाते-निभाते उनका शौक कहीं दब गया। कुछ समय बाद विजयन की जिंदगी में आईं मोहना।

कैसे पूरा किया घूमने-फिरने का सपना - विजयन और मोहना की चाय की दुकान पर हर दिन 300-350 ग्राहक आते हैं और चाय पीते हैं। इसके अलावा जो लोग विदेश से घूमने आते हैं वह भी यहीं आकर चाय पीते हैं। विजयन और मोहना की चाय आज बहुत मशहूर है। सबसे हैरान करने वाली बात यह है कि विजयन और मोहना की दुकान में कोई भी हेल्पर नहीं हैं। ये दोनों खुद चाय बनाते हैं और खुद ही उसे ग्राहकों को देते भी हैं। विजयन और मोहना की दिनभर में जितनी भी कमाई होती है उसमे से वह 300 रुपए बचाते हैं क्योंकि उन्हें अपना घूमने-फिरने का शौक पूरा करना होता है।

अब आप सोच रहे होंगे दिनभर के 300 रुपए बचाकर घूमना-फिरना कैसे हो पाता है तो वह भी हम आपको बताते हैं। जी दरअसल इस कपल की रोजमर्रा की जरूरतें बहुत कम हैं। दोनों घूमने के लिए बैंक से लोन लेते हैं और ट्रिप के बाद 3 सालों तक बैंक का लोन चुकाते हैं। इसके बाद दोनों किसी दूसरे ट्रिप की प्लानिंग करते हैं। सच में इस कपल के जज्बे को सलाम है।

कहाँ-कहाँ कर चुके हैं सैर- यह कपल अब तक ब्राजील, अर्जेंटीना, पेरू देशों की सैर कर चुके हैं। वैसे इस कपल की सबसे प्रिय जगहें सिंगापुर, स्विट्जरलैंड और न्यूयार्क है। इस समय यह कपल स्वीडन, डेनमार्क, हॉलैंड, ग्रीनलैंड नार्वे घूमने का प्लान बना रहे हैं।

मछुआरे को मिला शार्क का बच्चा, तस्वीर देख हैरान रह जाएंगे आप

सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा गिलहरी और सांप का ये चौकाने वाला वीडियो

वाहनों के कलपुर्जों का शत प्रतिशत स्थानीयकरण करें कंपनियां: नितिन गडकरी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -