14 साल के लड़के का कारनामा, बनाया खतरनाक वायरस

14 साल के लड़के का कारनामा, बनाया खतरनाक वायरस

आज भी 2017 में हुआ BrickerBot मैलवेयर अटैक टेक्नॉलजी की दुनिया से जुड़े लोगों को  जरूर याद होगा. और एक बार फिर वैसा ही अटैक हुआ है. इस बार पहले से बड़े स्केल पर एक वायरस नुकसान पहुंचा रहा है और इस वायरस को एक 14 साल के किशोर ने बनाया है, जिसका कोडनेम 'Light Leafon' है. आपको बता दें, 'ब्रिकरबॉट' मैलवेयर ने 2017 में नई दिल्ली में एमटीएनएल ब्रॉडबैंड सर्विस को नुकसान पहुंचाया था. और इसके चलते बीएसएनएल ब्रॉडबैंड सब्सक्राइबर्स के कम से कम 60,000 मॉडेम प्रभावित हुए थे. अब सामने आए नए मैलवेयर का अटैक भी ब्रिकरबॉट मैलवेयर जैसा ही है. आइए जानते है पूरी जानकारी विस्तार से 

इस भाजपा विधायक ने चमकी बुखार को लेकर सीएम नीतीश से मांगा इस्तीफा

पिछले मामले से नए मैलवेयर Silex के अटैक को इसलिए जोड़ा जा रहा है क्योंकि यह 'ब्रिकरबॉट' के तरीके से और भी बड़ा नुकसान पहुंचा रहा है. एक रिपोर्ट में कहा गया है कि इस मैलवेयर की मदद से आसानी से स्मार्ट IoT डिवाइसेज को खराब किया जा सकता है और अटैक के बाद वे किसी काम के नहीं रहते. दरअसल, 'ब्रिकरबॉट' की तरह ही 'साइलेक्स' मैलवेयर भी IoT डिवाइसेज के स्टोरेज को पूरी तरह वाइप क्लीन कर देता है. यह मैलवेयर डिवाइस के नेटवर्क कन्फिगरेशंस को हटाने के अलावा फायरवॉल रूल्स को बेकार करते हुए डिवाइस को किल या ब्रिक कर देता है. ऐसे अटैक से निपटने का तरीका अपने डिवाइस के फर्मवेयर को बचाकर रखना और दोबारा इंस्टॉल करना है, जो ज्यादातर यूजर्स के लिए एक आसान प्रक्रिया नहीं है. ऐसे में ज्यादातर यूजर्स को यही लगेगा कि उनके डिवाइस में कोई हार्डवेयर से जुड़ी खराबी आ गई है और वे हर तरह की कोशिश के बाद डिवाइस को पूरी तरह बेकार मानते हुए फेंक देंगे. 'साइलेक्स' मैलवेयर का पता सबसे पहले Akamai रिसर्चर लैरी कैशडॉलर ने लगाया और बताया कि यह कैसे काम करता है. NewSky सिक्यॉरिटी रिसर्चर अंकित अनुभव ने वायरस को बनाने वाले Light Leafon का इंटव्यू लिया है, जिसमें 14 साल के मास्टरमाइंड के और भी खतरनाक प्लान सामने आए हैं.

Oppo smartphone : अब बिना नेटवर्क कर पाएंगे बात, ये है पूरी रिपोर्ट

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि यह मैलवेयर ओरिजनल ब्रिकबॉट फंक्शन पर ही आधारित है और उसका प्लान नए मैलवेयर को और भी खतरनाक और नुकसान पहुंचाने के लिए डिवेलप करना है. ऐसे में किसी डिवाइस के ब्रिक होने से ज्यादा खतरनाक एक 14 साल के किशोर के पास उस क्षमता का होना है जो SSH की मदद से न सिर्फ डिवाइसेज तक पहुंच सकता है, बल्कि आसानी से Telnet हाइजैकिंग भी कर सकता है. पहले ही चेतावनी देते हुए किशोर ने कहा है, 'मैं और मेरा दोस्त स्किडी Mirai या Qbot लोड वाले हर डिवाइस को टारगेट करने के लिए बॉट को तैयार करने जा रहे हैं.'

PUBG Mobile यूजर को जल्द देगा नए गेम की सौगात, ये है मौजूदा जानकारी

इस दिन शुरू होगी Amazon Prime Day सेल, होंगे कई फायदे

iPhone X पर मिलेगा बम्पर डिस्काउंट, जानिए ऑफर