ओडिशा: 10 हजार महिलाओं को उज्जवला दीदी बनाएगी तेल विपणन कंपनियां

भुवनेश्वर: तेल विपणन कंपनियां ओडिशा में उज्ज्वला योजना के तहत वितरित किए गए एलपीजी कनेक्शन का उपयोग जारी रखना सुनिश्चित करने के लिए 10 हजार से ज्यादा ग्रामीण महिलाओं को ‘उज्ज्वला दीदी’ का पद देकर उन्हें ऊर्जा दूत बनायेंगी. इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन और एसएलसी ऑयल इंडस्ट्री के प्रमुख महाप्रबंधक शुभजीत घोष ने यहां प्रेस वालों से कहा है कि, ‘‘दस हजार से ज्यादा उज्ज्वला दीदियों की पहचान कर ली गई है, जो प्रदेश में जमीनी स्तर पर ऊर्जा के एंबेसडर का कार्य करेंगी.’’ 

खाद्य तेलों में गिरावट के साथ गुड़ और गेहूं के दाम भी घटे

उन्होंने कहा है कि उज्ज्वला दीदी प्रदेश में वितरकों तथा वर्तमान एवं संभावित एलपीजी ग्राहकों के मध्य पुल का कार्य करेंगी. प्रदेश में एलपीजी ग्राहकों की तादाद 2014 के 20 लाख से बढ़कर फरवरी 2019 में लगभग 78 लाख पर पहुंच चुकी है. घोष ने कहा है कि प्रदेश में एलपीजी ग्राहकों की वृद्धि में अकेले प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना का ही योगदान है. उन्होंने कहा है कि प्रदेश में यह योजना 20 जून 2016 से आरम्भ हुई और तब से गरीब महिलाओं को 39 लाख एलपीजी कनेक्शन प्रदान किए जा चुके हैं.

समाप्त सप्ताह में विदेशी पूंजी भंडार 1.50 अरब डॉलर बढ़कर 398.27 अरब डॉलर हुआ

उन्होंने कहा है कि ओडिशा में एलपीजी का घनत्व 2014 में जहां 20 फीसद था वह आज बढ़कर 73 फीसद तक पहुंच गया है. हालांकि, सफलतापूर्वक लागू की गई किसी भी योजना के लिए उसकी निरंतरता अहम् है. यही कारण है कि तेल विपणन कंपनियां उज्ज्वला दीदी की अवधारणा के साथ आगे बढ़ी हैं. इन उज्ज्वला दीदी का चयन प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के लाभार्थियों में से ही किया गया है.

खबरें और भी:-

इस सप्ताह मामूली तेजी के साथ बंद हुए घरेलू शेयर बाजार

शूटिंग वर्ल्ड कप: पाक निशानेबाज़ों को भारत ने नहीं दिया वीज़ा, IOC ने उठाया बड़ा कदम

वार्डन, एडमिनिस्ट्रेटिव ऑफिसर समेत कई पद खाली, इन योग्यता के साथ करें आवेदन

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -