ओडिशा वन विभाग प्रवासी पक्षियों के शवों को संरक्षित करने की बना रहा है योजना

By Nikki Chouhan
Jan 28 2021 05:05 PM
ओडिशा वन विभाग प्रवासी पक्षियों के शवों को संरक्षित करने की बना रहा है योजना

भुवनेश्वर: ओडिशा वन विभाग यहां राजधानी शहर में क्षेत्रीय प्राकृतिक इतिहास संग्रहालय में प्रवासी पक्षियों के नमूनों को संरक्षित करने पर विचार कर रहा है। क्षेत्रीय संग्रहालय में पहले से ही हाथी, डॉल्फिन, गैंडा, अफ्रीकी ज़ेबरा, चीता, कीड़े और सरीसृप सहित जानवरों के कंकाल और अवशेषों की कई किस्में हैं। अब, विभाग प्रवासी पक्षियों के शवों को संरक्षित करने की योजना बना रहा है, जो हर साल चिलिका झील का विस्तार करते हैं।

एवियन प्रजाति ही नहीं, संग्रहालय जानवरों, पक्षियों और अन्य प्रजातियों के शवों को संरक्षित करने पर विचार कर रहा है जो पूरे राज्य के चिड़ियाघर, पार्कों और अभयारण्यों में स्वाभाविक रूप से मर जाते हैं। राज्य प्रधान मुख्य वन संरक्षक ने भी संबंधित चिड़ियाघरों और पार्कों से किसी पक्षी या जानवर की मौत के बारे में संग्रहालय अधिकारियों को सूचित करने का आग्रह किया है।

प्राकृतिक इतिहास अधिकारियों के क्षेत्रीय संग्रहालय ने प्रस्ताव दिया है कि अगर उन्हें 24 घंटों के भीतर किसी पक्षी या जानवर की मौत के बारे में सूचित किया जाता है, तो वे इसे संग्रहालय में एकत्र करेंगे और संरक्षित करेंगे। राज्य भर के सभी चिड़ियाघरों और पार्कों को भी ऐसा करने का निर्देश दिया जाएगा ताकि प्राणि अवशेषों को संरक्षित किया जा सके। पीसीसीएफ हरि शंकर उपाध्याय ने संवाददाताओं से कहा कि इससे छात्रों को अपने शोध में काफी मदद मिलेगी।

आरएमएनएच अधिकारियों ने कहा कि स्थानीय पक्षियों पर पर्याप्त आंकड़े हैं लेकिन राज्य के पास विदेशी भूमि से हर साल ओडिशा घूमने वाले प्रवासी पंखों वाले मेहमानों के बारे में अधिक जानकारी नहीं है। इसलिए पशु नमूनों की एक समग्र संरक्षण पहल राज्य में एक अच्छा अनुसंधान आधार स्थापित करने में एक लंबा रास्ता तय करेगी।

कृषि कानून के खिलाफ ममता सरकार ने पेश किया प्रस्ताव, कहा- कानून वापस ले सरकार या सत्ता छोड़े

देशभर में अब तक 125 लाख लोगों को लग चुकी है कोरोना वैक्सीन, स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी जानकारी

बिहार में बड़ी बैंक लूट, AXIS बैंक की शाखा से 4 लाख रुपए लूट ले गए बदमाश