कोविड के बीच 10वीं के दिव्यांग छात्रों के लिए कोई ऑफ़लाइन परीक्षा नहीं

ओडिशा मानवाधिकार आयोग ने माध्यमिक शिक्षा बोर्ड को 10वीं कक्षा के विकलांग छात्रों की ऑफ़लाइन परीक्षा आगे नहीं बढ़ाने का निर्देश दिया। यह आदेश अधिकार कार्यकर्ता मनोज जेना की एक याचिका पर आया है। विशेष विद्यालयों के 139 दिव्यांग विद्यार्थियों की हाई स्कूल प्रमाणपत्र परीक्षा का परिणाम घोषित नहीं करने के बीएसई के फैसले के खिलाफ यह आदेश जारी किया गया था। ओएचआरसी ने तब सोचा कि बीएसई दिव्यांग छात्रों की ऑफलाइन मोड परीक्षा पर जोर क्यों दे रहा है। 

सवाल उठाया गया कि जब सामान्य विद्यालयों के लाखों छात्रों का परिणाम बिना किसी परीक्षा के प्रकाशित हो गया था तो उन्हें सामान्य पदोन्नति क्यों नहीं मिलती। बीएसई ने 30 जुलाई को ऑफ़लाइन मोड के माध्यम से उन लोगों की एचएससी परीक्षा आयोजित करने का निर्णय लिया है जो लिखित परीक्षा और विशेष स्कूल के 139 अलग-अलग विकलांग विद्यार्थियों की एचएससी परीक्षा आयोजित करना चाहते हैं।

याचिकाकर्ता ने कहा कि बीएसई का ऐसा निर्णय न केवल मनमाना था बल्कि इसका उद्देश्य दिव्यांग छात्रों को पूरी तरह से मुश्किल में डालना था। आयोग ने कहा कि उसे इस तरह के फैसले के लिए बीएसई की ओर से कोई औचित्य नहीं मिला और इसे "आश्चर्यजनक" करार दिया। राइट्स पैनल ने चेतावनी दी कि अगर दिव्यांग छात्रों के हित को प्रभावित करने वाले मामले में कुछ भी अनहोनी होती है, तो यह बीएसई और संबंधित अधिकारी का एकमात्र जोखिम होगा। ओएचआरसी ने मामले को आगे की सुनवाई के लिए 6 अगस्त को पोस्ट किया।

इस मशहूर रियलिटी शो को रिप्लेस करेगा 'द कपिल शर्मा शो'

VIDEO: राहुल-दिशा के घर पहुंचे किन्नर, आशीर्वाद देकर मांगे इतने रुपए

क्या बिग बॉस 15 में नजर आएंगी दिशा परमार? खुद किया खुलासा

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -