जीवन में उत्पन्न हो रहीं बाधाएं तो इसका कारण आपके घर में ही है

इस संसार में दो प्रकार के लोग निवास करते है एक धार्मिक जो ईश्वर पर विशवास रखता है और उनकी पूजा करता है तथा दूसरा दूसरा नास्तिक जो ईश्वर के अस्तित्व को नहीं मानता है. जो व्यक्ति धार्मिक होते है उनके घरों में मंदिर अवश्य होता है और वह प्रतिदिन अपने अराध्य की पूजा करते है. किन्तु फिर भी कई व्यक्तियों को उनकी आराधना का उचित फल नहीं मिलता है और उनके समक्ष कई परेशानियाँ और समस्या उत्पन्न होती रहती है. इसका कारण उनके पूजा स्थान का वास्तु भी हो सकता है जो उनकी पूजा का विपरीत प्रभाव उनके जीवन पर डालता है आज हम आपको 4 ऐसे ही वास्तु दोष के विषय में बताएँगे जो आपके घर के मंदिर और पूजा स्थान के वास्तु दोष को ख़त्म करने में सहायक होंगे.

1. यदि आपके घर के मंदिर में किसी भी भगवान् की एक से अधिक मूर्ति या तस्वीरें लगी हुई है खासकर गणेश भगवान् की तो सभी की एक तस्वीर या मूर्ति को छोड़कर बाकी की हटा दें, क्योंकि घर के मंदिर में एक से अधिक तस्वीरें होना आपके सभी शुभ कार्य में बाधा उत्पन्न करती है.

2. वास्तु शास्त्र के अनुसार आपके घर का मंदिर या पूजा स्थल हमेशा उत्तर दिशा की तरफ होना चाहिए. घर के मंदिर का दक्षिण या पश्चिम दिशा की तरफ होना अशुभ माना जाता है और इससे आपको अशुभ फल की प्राप्ति होती है.

3. यदि आपके घर का मंदिर या पूजा स्थल आपके घर के शौचालय के निकट है या फिर आपकी रसोई के पास है तो वास्तु शास्त्र में इसे अनुचित बताया गया है सीढ़ियों के नीचे या किसी तहखाने में भी मंदिर का हना अशुभ माना जाता है इससे आपकी पूजा का फल आपको प्राप्त नहीं होता है.

4. आपको अपने घर के मंदिर की मूर्तियों के विषय में भी जानकारी होना चाहिए. घर के मंदिर में हमेशा छोटी मूर्ति ही रखना चाहिए यदि आपके मंदिर में शिवलिंग रखते है तो इसकी लम्बाई अपने हाथ के अंगूठे से बड़ी नहीं होना चाहिए क्योकि शिवलिंग बहुत संवेदनशील होता है.  

 

हो जाएं अगर इन चीजों के दर्शन तो समझ लें की आप धन्य हो गए

यह संकेत आपको बताते है की ईश्वर हमेशा आपके आस पास होते है

घर से निकलने पर इन महिलाओं का दिखाई देना बहुत शुभ होता है

साधारण ताले से खोलिए अपनी बंद किस्मत का ताला

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -