प्रेगनेंसी के दौरान मोटापे से गर्भवती महिला और बच्चे दोनों को खतरा

प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओ का स्वास्थ्य बच्चे के लिए भी अहमियत रखता है. ऐसे में गर्भवती महिला का मोटापा महिला और बच्चे दोनों के स्वस्थ्य के लिए काफी हानिकारक हो सकता है. इसके अलावा मोटापे के चलते महिलाओ को गर्भ धारण करने में दिक्कतों का सामना भी करना पड़ सकता है. 

अमेरिकी के ओहियो स्थित केस वेस्टर्न रिजर्व विश्वविद्यालय में किये एक शोध के अनुसार, प्रेगनेंसी के दौरान मोटापे के चलते महिलाओ में डायबिटीज, प्री-इक्लैप्सिया, समय से पहले बच्चे का जन्म, सीजेरियन से जन्म, इंफेक्शन और डिलीवरी के बाद ब्लीडिंग जैसी समस्याए देखी जाती है. वही इस वजह से शिशु को हैरिडिटरी प्रॉब्लम्स जैसी स्वस्थ्य समस्याओ के साथ नवजात को भी मोटापे की समस्या से गुजरना पड़ सकता है. 

दरअसल अमूमन प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओ का वजन बढ़ जाता है. ऐसे में महिलाए अपने खानपान का ध्यान रख और नियमित व्यायाम से खुद को और अपने होने वाले बच्चो को इस खतरे से बचा सकती है.

किशोरों में बढ़ रहे मोटापे के इलाज के लिए खोल विशेष क्लिनिक

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -