बीजेपी के सर्बानंद सोनोवाल ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ

गुवाहाटी: सर्बानंद सोनोवाल ने असम के नए सीएम के तौर पर शपथ ग्रहण कर लिया. असम में पहली बार बीजेपी की सरकार बनी है. इस शपथ ग्रहण समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह समेत कई बड़े नेता पहुंचे है. सोनोवाल के साथ 10 अन्य मंत्रियों ने भी अपने पद की शपथ ली।

इन 10 मंत्रियों में से 5 बीजेपी के और 2-2 अलायंस गण परिषद् (एजीएम) और बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट (बीपीएफ) के है. इस शपथ ग्रहण समारोह में गुजरात की मुख्यमंत्री आनंदी बेन पटेल, राजस्थान की सीएम वसुंधरा राजे, आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर सहित कई वीवीआईपी शामिल हुए।

बीजेपी ने अब तक इस बात की पुष्टि नहीं की है, कैबिनेट में कुल मंत्री होंगे. बीजेपी के एक सीनियर लीडर के मुताबिक, 'हमारे नेता सहयोगी दलों के बीच सहमति बनाने की कोशिशों में लगे हैं. कैबिनेट में हर दल का प्रॉपर रिप्रेजेंटेशन रहेगा. बता दें कि असेंबली इलेक्शन में बीजेपी ने 60 सीटें जीती हैं।

वहीं एजीएम को 14 और बीपीएफ को 12 सीटों पर जीत हासिल हुई है. विकास के एजेंडे पर असम के चुनावी मैदान में बाजी मारने वाली बीजेपी को सर्बानंद सोनोवाल के तौर पर तुरुप का इक्का मिला है. 31 अक्टूबर 1962 को असम के डिब्रुगढ़ में जन्मे सर्बानंद ने एलएलबी औऱ बीसीजे की डिग्री डिब्रूगढ़ और गुवाहाटी यूनिवर्सिटी से पूरी की।

छात्र राजनीति से सक्रिय रहे सर्बानंद असम गण परिषद के स्टूडेंट विंग ऑल असम स्टूडेंट यूनियन और पूर्वोत्तर के राज्यों में असर रखने वाले नॉर्थ इस्ट स्टुडेंट्स यूनियन के अध्यक्ष भी रह चुके हैं. वह 1992 से 1999 के बीच इसके अध्यक्ष रहे. 2001 में वो असम गण परिषद में आए और उसी साल विधायक चुने गए।

2004 मेंडिब्रूगढ़ से सांसद बने. 2011 में उन्होने बीजेपी की सदस्यता ली. 2012 व 2014 में वो दो बार असम बीजेपी के अध्यक्ष भी रहे. 2014 में भी बीजेपी ने असम में बेहतर प्रदर्शन किया था, जिसका श्रेय सर्बानंद को ही जाता है. सांसद रहने के साथ ही राज्य में गृह मंत्री और उद्योग-वाणिज्य मंत्री रहने के कारण सोनोवाल की राज्य की प्रशासनिक पर जबरदस्त पकड़ मानी जाती है।

केंद्र सरकार में वो खेल मंत्रालय का कार्यभार संभाल रहे है. निजी तौर पर वो खुद भी फुटबॉल और बैडमिंटन के खिलाड़ी रह चुके है।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -