एन.टी. रामाराव ने बनाई थी तेलुगु देशम पार्टी, जानें जीवन के रोचक तथ्य

एन.टी. रामाराव ने बनाई थी तेलुगु देशम पार्टी, जानें जीवन के रोचक तथ्य

आज यानी 28 मई को एन.टी. रामा राव का जन्मदिन है. एन.टी. रामा राव (नन्दमूरि तारक रामाराव) एक भारतीय अभिनेता, निर्देशक, फिल्म निर्माता एवं राजनेता थे. एनटीआर के उपनाम से प्रसिद्ध रामाराव ने तेलुगु देशम पार्टी की स्थापना की और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री भी रहे. सन 1983 और 1995 के बीच में वो तीन बार आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे. राजनीति में आने से पहले रामाराव तेलुगु फिल्मों के मशहूर अभिनेता थे. 1950 के दशक में उन्होंने हिन्दू देवताओं जैसे कृष्ण और राम के जीवन से सम्बंधित फिल्मों में काम किया और दर्शकों के चहेते बन गए. 

जल्द ही इस बॉलीवुड एक्टर के साथ काम कर सकते है फिल्म निर्माता पूरी जग्गनाथ

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि उन्होंने 250 से ज्यादा तेलुगु फिल्मों में कार्य किया जिसके कारण वह तेलुगु फिल्मों के इतिहास में सबसे जाने-माने अभिनताओं में से एक माने जाते हैं. तेलुगु के अलावा उन्होंने तमिल और हिंदी भाषा की फिल्मों में भी कार्य किया. भारतीय सिनेमा में उनके योगदान को देखते हुए भारत सरकार ने उन्हें सन 1968 में पद्म श्री से सम्मानित किया.

सेक्स टेप से लेकर लड़की पर पेशाब करने तक, यह है हॉलीवुड की टॉप 6 कंट्रोवर्सी

अगर आपको नही पता तो बता दे कि एन.टी. रामा राव (नन्दमूरि तारक रामाराव) का जन्म 28 मई 1923 को मद्रास प्रेसीडेंसी के कृष्ण जिले के गुड़िवाड़ा तालुक के एक छोटे से ग्राम निम्माकुरु में हुआ था. उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा गाँव के ही एक शिक्षक सुब्बा राव से ग्रहण की. उनके माता-पिता ने बचपन में ही उन्हें उनके मामा को गोद दे दिया था. गांव में अच्छी शिक्षा का प्रबंध नहीं था इसलिए एन.टी. रामा राव अपने गांव में महज पांचवीं कक्षा तक ही पढाई कर पाए. इसके पश्चात वह अपने दत्तक माता-पिता के साथ विजयवाड़ा चले गए जहाँ उन्होंने नगर निगम के विद्यालय में दाखिला लिया. उन्होंने सन 1940 में दसवीं की परीक्षा उत्तीर्ण कर ली और उसके बाद आगे की पढ़ाई के लिए विजयवाड़ा के एस.आर.आर. और सी.वी.आर. कॉलेज में दाखिला लिया. उनके परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी इसलिए पढ़ाई के दौरान रामाराव अपने परिवार की मदद करने के लिए विजयवाड़ा के स्थानीय होटलों में दूध वितरण का कार्य करते थे. वर्ष 1945 में उन्होंने स्नातक की पढ़ाई के लिए आन्ध्र-क्रिश्चियन कॉलेज में दाखिला लिया. सन 1942 में उन्होंने अपने मामा की बेटी के साथ विवाह किया.

ईद पर सौतेली माँ ने दी थी इरा खान को साड़ी, जल्दबाजी में पहनी

उल्टीरिलीज़ हुआ राम गोपाल वर्मा की इस हॉरर महामारी मूवी का ट्रेलर

फना के 14 साल पूरे होने पर काजोल ने शेयर की तस्वीर