पायलट ही नहीं बल्कि वसुंधरा भी बन रही है परेशानी का कारण, जानिए आखिर क्यों हुआ इनाम का एलान

पायलट ही नहीं बल्कि वसुंधरा भी बन रही है परेशानी का कारण, जानिए आखिर क्यों हुआ इनाम का एलान

राजस्थान में इन दिनों कांग्रेस के खेमे में ही नहीं बल्कि बीजेपी में भी राजनीति और भी तेज हो चुकी है। गुरुवार को बीजेपी की कद्दावर नेता और पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और उनके बेटे सांसद दुष्यंत सिंह के निर्वाचन क्षेत्र झालावाड़ और झालरापाटन में लापता होने के पोस्टर लगाए गए है। जिसके कारण से बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच असहज स्थिति पैदा हो गयी है।

वसुंधरा के खिलाफ चस्पा पोस्टर: जंहा इस बात का पता चला है कि झालावाड़ और झालरापाटन शहरों की दीवारों पर लगे पोस्टरों में लापता को ढूंढने के शीर्षक के साथ दोनों बीजेपी नेताओं की तस्वीर थी। जिसमें लिखा हुए था "इस गंभीर कोरोना काल में पूरे झालावाड़ जिले के निवासियों को अकेला छोड़कर आप दोनों कहां चले गए हैं? डरिए नहीं, घर आ जाइए।" पोस्टर में उपहास भरे अंदाज में कहा गया था कि "लोगों का क्या है? वे इसे एक-दो दिन में भूल जाएंगे।"

लेकिन यह बात अब भी समाप्त नहीं हुई इसके अलावा पोस्टरों में दोनों नेताओं के बारे में सूचना देने वालों को आकर्षक इनाम देने का भी एलान किया जा चुका है। गुरुवार को सुबह केस की सूचना मिलने के उपरांत बीजेपी कार्यकर्ताओं और नगर परिषद कर्मचारियों ने घटनस्थल पर पहुंचकर सभी पोस्टरों को फाड़कर हटा दिया। पूरे मामले में बीजेपी के जिलाध्यक्ष संजय जैन ने इसे राजनीति का नया निचला स्तर कहा है। उन्होंने बोला कि दोनों नेता अपने क्षेत्रों के अधिकारियों और लोगों से निरंतर संपर्क में हैं और इस मुश्किल समय के उपरांत दोनों जनप्रतिनिधी लोगों की विभिन्न आवश्यकता की व्यवस्था के लिए निरंतर वर्चुअल बैठक कर अधिकारियों से बातचीत कर रहे हैं।

बता दें कि बीच संसदीय चुनाव में दुष्यंत सिंह के विरुद्ध उम्मीदवार रहे और स्थानीय कांग्रेस नेता प्रमोद शर्मा ने भी दोनों नेताओं के विरुद्ध पोस्टर अभियान में अपना समर्थन देना जारी रखा है। उन्होंने दावा किया कि राजे ने पिछले 2 वर्ष से अपने निर्वाचल क्षेत्र का दौरा नहीं किया है।

Italian Marines Case : मृत भारतीय मछुआरों के परिजनों को मिलेगा 4-4 करोड़ मुआवज़ा

देशी बम के धमाके से उड़ा था बांका का मदरसा, दम घुटने से हुई मौलाना की मौत

संयुक्त राष्ट्र के इस अहम कार्यक्रम को सम्बोधित करेंगे पीएम मोदी, 14 जून को होगा सम्बोधन