लोकसभा चुनाव: ओडिशा के 12 मतदान केंद्रों पर नहीं पड़ा एक भी वोट, जानिए क्या थी वजह ?

लोकसभा चुनाव: ओडिशा के 12 मतदान केंद्रों पर नहीं पड़ा एक भी वोट, जानिए क्या थी वजह ?

भुवनेश्वर : ओडिशा में गुरुवार को 2019 लोकसभा चुनाव के प्रथम चरण में मतदान हिंसामुक्त रहा, किन्तु मलकानगिरी जिले के कुछ माओवाद प्रभावित इलाकों में शून्य प्रतिशत मतदान रिकॉर्ड हुआ है. इसके साथ ही कुछ स्थानों पर ग्रामीणों ने स्थानीय मांगों को लेकर चुनावों का बहिष्कार किया. एक अधिकारी ने इस बारे में जानकारी देते हुए कहा है कि मलकानगिरी जिले के चित्रकोंडा क्षेत्र में करीब एक दर्जन मतदान केन्द्रों पर "शून्य प्रतिशत मतदान" रिकॉर्ड हुआ है.

मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) सुरेंद्र कुमार ने बताया है कि, "हां, हमें कुछ मुद्दों पर ग्रामीणों द्वारा चुनाव बहिष्कार की रिपोर्ट प्राप्त हुई हैं, जबकि मलकानगिरी जिले के कुछ नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में शून्य मतदान हुआ है."  मलकानगिरी जिला प्रशासन के सूत्रों ने बताया है कि चित्रकोंडा विधानसभा क्षेत्र में कई मतदान केंद्रों पर लोग मतदान करने नहीं आए.  उल्लेखनीय है कि लोकसभा चुनाव के प्रथम चरण के लिए गुरुवार को 20 प्रदेशों की 91 सीटों के लिए मतदान करीब-करीब शांति पूर्ण रहा. शाम पांच बजे तक के आंकड़ों के मुताबिक सबसे कम मतदान बिहार में हुआ 50 प्रतिशत और सबसे अधिक पश्चिम बंगाल में 81 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया. 

उप चुनाव आयुक्त उमेश सिंहा ने प्रेस वार्ता में बताया कि प्रथम चरण के चुनाव में मतदान का स्तर सामान्य रहा. सिंहा ने कहा कि फाइनल आंकड़े आने तक यह स्तर गत चुनाव की तुलना में लगभग बराबर हो जाएगा. उन्होंने कहा है कि सभी 20 प्रदेशों की मतदान वाली सीटों पर सामान्य रूप से शांतिपूर्ण मतदान रहा. कुछ इलाकों में हिसा और बाधा पहुंचाने की शिकायतें जरूर प्राप्त हुई जिन्हें तत्काल दूर कर दिया गया. 

खबरें और भी:-

धर्म के नाम पर किया चुनाव प्रचार, आयोग ने योगी-माया को थमाया नोटिस

सुमित्रा महाजन: एक ऐसी महिला सांसद, जो कभी लोकसभा चुनाव नहीं हारी, जानिए रोचक बातें...

केंद्र सरकार पर बरसे कीर्ति आज़ाद, राफेल को बताया सबसे बड़ा भ्रष्टाचार