श्रुत पंचमी महोत्सव पर निकली अहिंसा रैली

श्रुत पंचमी महोत्सव पर निकली अहिंसा रैली

उज्जैन : अखिल भारतीय जैन युवा फेडरेशन के तत्वावधान में श्री सीमंधर जिनालय क्षीरसागर पर आयोजित बाल युवा अध्यात्म संस्कार शिविर का  समापन हुआ। शिविर में 7 दिनों तक 125 बच्चों ने संस्कारों का पाठ पढ़ा। अंतिम दिन रविवार को श्रुत पंचमी महोत्सव पर अहिंसा रैली निकली तथा पुरस्कार वितरण समारोह आयोजित हुआ। 

सिध्दप्रकाश झांझरी एवं विक्रांत जैन के अनुसार विशालश्रुत अहिंसा रैली क्षीरसागर स्थित जिनालय से निकलकर क्षीरसागर स्टेडियम, कांग्रेस भवन, नईसड़क, कंठाल, निजातपुरा होती हुई पुनः क्षीरसागर जिनालय पहुंची। आगे-आगे केसरियां ध्वज लहरा रहा था तथा पीछे बच्चों के हाथों में तख्तियों पर ‘रात्रि भोजन बंद करो, पानी छान के पियो, कभी किसी का दिल दुखाने का भाव मत करो, संयम से रहो, क्रोध ना करो, अभिमानी मत बनों, चोरी करना व चोरी का भाव करना पाप है, असत्य बोलना पाप है, जैसे प्रेरणास्पद स्लोगन लहरा रहे थे।

सिध्दप्रकाश झांझरी ने बताया शिविर में सात दिनों तक विमलचंद झांझरी तथा प्रदीप झांझरी के मंगल सानिध्य में इंदौर से आए विद्वान पं. संजय सिध्दार्थी, प्रिया सिध्दार्थी तथा रतलाम से आई जैनम जैन बच्चों को ज्ञान वर्धक शिक्षाएं प्रदान की। यात्रा में विशेष रूप से सामाजिक संसद अध्यक्ष अशोक जैन चायवाला उपस्थित थे। शिविर में विभिन्न प्रतियोगिताएं भी आयोजित की गई जिसमें अनीता झांझरी एवं सुनीता जैन द्वारा जिनवाणी सजाओ प्रतियोगिता तथा हेमलता गोधा द्वारा वाक्य संकल्न प्रतियोगिता आयोजित की गई।

अध्यात्म का प्रारंभ तो स्वयं की खोज से होता है