निज़ामाबाद लोकसभा सीट: चुनावी समर में कूद पड़े हैं 178 किसान, सीएम की बेटी से है मुकाबला

निज़ामाबाद लोकसभा सीट: चुनावी समर में कूद पड़े हैं 178 किसान, सीएम की बेटी से है मुकाबला

हैदराबाद: तेलंगाना में 17 लोकसभा सीटों के लिए गुरुवार को वोटिंग हो रही है, किन्तु निज़ामाबाद में प्रत्याशियों की बड़ी संख्या के मद्देनज़र सबकी नज़रें इस सीट पर टिकी हुई हैं. यहां हर बूथ पर 12 ईवीएम का उपयोग हो रहा हैं. मुख्य निर्वाचन अधिकारी रजत कुमार ने कहा है कि, 'यह दुनिया में पहली दफा हुआ है जब इतनी बड़े पैमाने में प्रत्याशियों को लेकर इतनी बड़ी संख्या में ईवीएम का उपयोग करके चुनाव कराया जा रहा है.' 

भागलपुर में बोले पीएम, कहा 23 मई के बाद फिर से मोदी सरकार बनेगी

यहाँ चुनावी मैदान में 185 उम्मीदवार उतरे हैं, जिनमें 178 किसान शामिल हैं जो हल्दी और लाल ज्वार के लिए समर्थन मूल्य और निजामाबाद में एक हल्दी बोर्ड की स्थापना की मांग के समर्थन में चुनावी समर में कूद पड़े हैं. तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के अध्यक्ष और तेलंगाना के सीएम के चंद्रशेखर राव की बेटी के कविता यहां से फिर से चुनाव मैदान में हैं. हालांकि अन्य निर्वाचन क्षेत्रों में सुबह 7 बजे से मतदान आरंभ हुआ, तो वहीं निज़ामाबाद में वोटिंग एक घंटे देरी से शुरू हुई, क्योंकि चुनाव में बड़ी संख्या में प्रत्याशियों को देखते हुए और साथ ही बड़ी संख्या में ईवीएम की तैनाती की वजह से मॉक वोटिंग की योजना बनाई गई थी, जिसके चलते मतदान शुरू होने में ज्यादा समय लगा.

लोकसभा चुनाव: माओवादियों की धमकी से भी नहीं डरीं 102 वर्षीय अम्मा, पहुंची मतदान केंद्र

इस सीट से वर्तमान सांसद कविता ने अपने पति अनिल के साथ बोधन विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले पोतांगल गांव में अपना वोट डाला. प्रदर्शनकारी किसानों ने आरोप लगाया है कि सूबे की टीआरएस सरकार हल्दी और लाल ज्वार की उपज के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य निर्धारित करने और हल्दी बोर्ड की स्थापना करने में नाकाम रही है.

खबरें और भी:-

 

बारामुला: अलगाववादियों के मुंह पर करारा तमाचा, भारी मात्रा में वोट डालने पहुंचे मतदाता

लोकसभा चुनाव: महागठबंधन की वोटरों से अपील, कहा- महापरिवर्तन के पक्ष में दें वोट

जम्मू कश्मीर: छह पोलिंग बूथ पर देरी से शुरू हुआ मतदान, ईवीएम में आई समस्या