आशा पद्म भूषण अवॉर्ड दिलवाने के लिए मेरे पीछे पड़ी थीं - नितिन गडकरी

मुम्बई. आशा पारेख ने केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के बयान को चोट पहुंचाने वाला और दुखदायी बताया. सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने बीते वर्ष नागपुर में एक इवेंट में कहा था कि पद्मा भूषण अवार्ड दिलाने के लिए आशा पारेख ने उनसे सिफारिश करने के लिए संपर्क किया था. वह पद्म भूषण अवॉर्ड के लिए उनके पीछे पड़ी थीं.

इतना ही नहीं नितिन गडकरी ने दावा भी किया कि उनकी बिल्डिंग की लिफ्ट ठीक से काम नहीं कर रही थी ऐसी स्थति में भी आशा 12 मंजिल सीढ़ी चढ़ कर उनसे मिलने पहुंची, जिसका उन्हें खेद है. आशा ने इस बयान को दुखद कहते हुए कहा, उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए था, किन्तु मैंने इसे सिर्फ नमक-मिर्च लगाने वाले बयान की तरह लिया. मुझे इससे कोई फर्क नहीं पड़ता. विवाद फ़िल्म इंडस्ट्री का हिस्सा होते हैं.

बता दे कि उन्हें 1992 में पद्मा श्री से सम्मानित किया जा चूका है. 2014 में उन्हें लाइफटाइम एचीवमेंट अवार्ड भी दिया गया था. 1959 से 1973 तक आशा ने बतौर लीडिंग एक्ट्रेस सुपरहिट फ़िल्मों में काम किया. इस दौरान उन्होंने सभी बड़े कलाकारों के साथ स्क्रीन शेयर की.

ये भी पढ़े 

BS-3 मामले में ऑटो निर्माताओं की मदद के लिए आगे आए गडकरी

इलेक्ट्रानिक तरीके से बनाये जायेगे लायसेंस : गडकरी

पर्रिकर के धन्यवाद के जवाब में दिग्विजय ने किया ऐसा ट्वीट

 

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -