शर्मिंदा हूँ कि खुद के मंत्रालय को पार्किंग की मंजूरी मिलने में 9 महीने लगे

नई दिल्ली : केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने सोमवार को कहा कि शर्मिंदा हूँ कि खुद के मंत्रालय को स्वचालित पार्किंग की जगह मंजूरियों के लिए 9 माह लग गये. संसद भवन के निकट परिवहन भवन में इस परियोजना की नींव रखने वाले गडकरी इसे लेकर बहुत इच्छुक थे, लेकिन मंजूरी में देरी होने से उन्होंने नाराजगी जताई. इस पर शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू ने इस तरह की मंजूरियों के लिए एक माह की समय सीमा तय करने का वादा किया.

नायडू ने कहा व्यापार सुगमता को वास्तविकता में बदलने के लिए मंजूरियों को सुगम बनाना जरूरी है. इसको लेकर सरकार गंभीर है. नितिन गडकरी ने कहा स्वचालित पार्किंग प्लाजा का उद्घाटन प्रधानमंत्री करेंगे. जब भी पीएम इसकी प्रगति के बारे में पूछते तो वे शर्मिंदा होते. सरकारी एजेंसी होने के बाद भी राज मार्ग मंत्रालय को अन्य मंत्रालयों से मंजूरियां लेने में 9 महीने लग गये.

नायडू ने कहा एक परियोजना को मंजूरी में 9 माह लगे और निर्माण में 9 माह लगेंगे. व्यापार की सुगमता के लिए हमने कई बैठकों के बाद एक योजना बनाई है कि सारी मंजूरियां 30 दिन में मिल जाए. गडकरी के नवोन्मेषी विचारों से प्रेरणा लेनी चाहिए.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -