कभी बस के धक्के खाकर कॉलेज जाती थी नीता अंबानी, आज 3 लाख की चाय से होती है दिन की शुरुआत

जाने माने मशहूर उद्योगपति मुकेश अंबानी की पत्नी एवं बिजनेसवुमन नीता अंबानी आज यानी 1 नवंबर को अपना जन्मदिन मना रही हैं। नीता का जन्म 1963 को मुंबई के मिडिल क्लास गुजराती परिवार में हुआ। उनके पिता का नाम रविन्द्रभाई दलाल एवं मां का नाम पूर्णिमा दलाल था। उन्होंने नरसी मोंजी कॉलेज से कॉमर्स में स्नातक की डिग्री ली तथा कम आयु में ही एक पेशेवर भरतनाट्यम डांसर बन गईं।

वही नीता जब विद्यालय में टीचर की नौकरी कर रही थीं तभी उनकी मुलाकात मुकेश अंबानी से हुई। दोनों ने लंबे अफेयर के पश्चात् 1985 में शादी कर ली। मुकेश एवं नीता अंबानी के 3 बच्चे हैं। आकाश, अनंत और ईशा अंबानी। नीता अपने पति के कारोबार में हाथ बटाती हैं। वे रिलाइंस फाउंडेशन, मुंबई इंडियन्स, धीरूभाई अंबानी इंटरनेशनल स्कूल का कामकाज देखती हैं। इसके साथ-साथ वो कई सारे NGO के साथ मिलकर भी काम करती हैं। अंबानी परिवार से संबंध रखने के नाते नीता अंबानी के शौक भी बहुत महंगे हैं। उनकी जीवनशैली हमेशा ही लोगों के लिए ख़बरों का विषय रहती है।

बता दे कि नीता अपने दिन का आरम्भ 3 लाख रुपये की चाय के साथ करती हैं। एक इंटरव्यू में उन्होंने बताया था कि वो जापान के सबसे पुराने क्रॉकरी ब्रांड नोरिटेक के कप में चाय पीती हैं। नोरिटेक क्रॉकरी सोने से जड़ा होता है तथा इसके 50 पीस के सेट का दाम डेढ़ करोड़ रुपए है। यानी एक कप चाय का दाम 3 लाख रुपए हुआ। सिर्फ कपड़े और पर्स ही नहीं बल्कि नीता अंबानी की लिपस्टिक्स भी स्पेशल ऑर्डर पर तैयारी होती है। इन लिपस्टिक्स का दाम 40 लाख रुपये से आरम्भ होती हैं जिसमें सोने और चांदी की परत चढ़ी रहती है। नीता अंबानी जिस प्राइवेट जेट में सफर करती हैं उसका दाम 230 करोड़ रुपए बताई जाती है। मुकेश अंबानी ने नीता अंबानी को कस्टम फिटेड एयरबस-319 लग्जरी प्राइवेट जेट उनके 44वें जन्मदिन पर गिफ्ट किया था। इस जेट में एक साथ 10-12 लोग यात्रा कर सकते हैं तथा इसमें दुनिया की सारी सुविधाएं उपस्थित हैं। वही आपको जानकर हैरानी होगी कि आज प्राइवेट जेट में सफर करने वाली नीता कभी बस की धक्के खाकर कॉलेज एवं स्कूल जाती थीं। नीता अंबानी एक फैशन आईकॉन के तौर पर जानी जाती हैं, उन्हें कई मौकों पर लाखों की साड़ी पहने हुए देखा गया है। नीता के पास शनेल, जिम्मी चू जैसे ब्रांड्स के बैग्स हैं जिनके दाम लाखों से करोड़ों तक होते है।

जिन्हे 'गुंडा' कहकर अपनी राजनीति चमकाते हैं नेता, उन्होंने ही मोरबी ब्रिज हादसे में बचाई 170 जिंदगियां

जेल का कैदी क्यों नहीं डाल सकता वोट ? SC ने केंद्र और चुनाव आयोग से माँगा जवाब

राष्ट्रीय एकता दिवस पर अधिकारी-कर्मचारियों को शपथ दिलाई

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -