50 के दशक में इस फिल्म से निम्मी बनी थी हिंदी सिने प्रेमियों के दिलों की धड़कन

50 के दशक में इस फिल्म से निम्मी बनी थी हिंदी सिने प्रेमियों के दिलों की धड़कन

हिंदी सिनेमा जगत की मशहूर अभिनेत्री निम्मी एक ऐसी अदाकारा हैं जिन्होंने पच्चास और साठ के दशक में महज शोपीस के तौर पर अभिनेत्रियों का इस्तेमाल किए जाने वाली विचारधारा पर पूर्णविराम लगा दिया था. फिल्म बरसात, दीदार, आन , उड़न खटोला और बसंत बहार जैसी कई फिल्मों में निम्मी ने अपने अभिनय की कला से सबके दिलों में जगह बना ली. निम्मी द्वारा अभिनीत फिल्मों पर यदि एक नजर डाले तो पाएगें कि पर्दे पर वह जो कुछ भी करती थी. वह उनके द्बारा निभाई गई भूमिका का जरूरी हिस्सा लगता है और उसमें वह कभी भी गलत साबित नहीं हुई. निम्मी ने अपने अभिनय और खूबसूरती से ना सिर्फ दर्शकों का दिल जीता बल्कि फिल्म निर्माता निर्देशकों की भी चहेती थी. 18 फरवरी को निम्मी 87 वां जन्मदिन मना रही हैं.  

निम्मी का जन्म 18 फरवरी 1933 को आगरा में हुआ था. उनका मूल नाम नवाब बानू था. उनकी मां वहीदन मशहूर गायिका होने के साथ फिल्म अभिनेत्री भी थीं और उन्होंने मशहूर निर्माता, निर्देशक महबूब खान के साथ कुछ फिल्मों काम किया था. निम्मी के पिता मिलिट्री में कॉन्ट्रेकटर के रूप में काम करते थे. बता दें की निम्मी जब महज नौ वर्ष की थी तब उनकी मां का निधन हो गया था . इसके बाद वह अपनी दादी के साथ रहने लगी. भारत विभाजन के पश्चात निम्मी मुंबई आ गई. इसी दौरान उनकी मुलाकात निर्माता-निर्देशक महबूब खान से हुई. महबूब खान इसके पहले उनकी मां को लेकर कुछ फिल्मों का निर्माण कर चुके थे. वह उन दिनों अपनी नई फिल्म 'अंदाज' का निर्माण कर रहे थे. उन्होंने निम्मी को फिल्म स्टूडियों मे बुलाया. फिल्म 'अंदाज' के सेट पर निम्मी की मुलाकात अभिनेता राज कपूर से हुई जो उन दिनों अपनी नई फिल्म 'बरसात' के लिये नये चेहरों की तलाश में लगे हुए थे और मुख्य अभिनेत्री के लिये नरगिस का चयन कर चुके थे. राजकपूर निम्मी की सुंदरता से प्रभावित होकर उनके सामने इस फिल्म में सहायक अभिनेत्री के रुप में काम करने का प्रस्ताव रखा जिसे उन्होने स्वीकार कर लिया.

साल 1949 में निम्मी ने फिल्म बरसात से अपने सिने सफर की शुरूआत की. उनकी पहली ही फिल्म बॉक्स ऑफिस पर सुपरहिट रही जिसने उन्हें रातोंरात बॉलीवुड में पहचान दिला दी. इस फिल्म के बाद निम्मी ने पिछे मुड़कर नहीं देखा. एक के बाद एक वे सफल फिल्में करती चली गई और अपने दौर की सफलता अभिनेत्रियों में गिने जाने लगी. वर्ष 1963 में प्रदर्शित फिल्म 'मेरे महबूब' निम्मी के सिने कैरियर की सुपरहिट फिल्मों में शुमार की जाती है. अशोक कुमार, राजेन्द्र कुमार और अमीता की मुख्य भूमिका वाली इस फिल्म में निम्मी ने अपने दमदार अभिनय से दर्शको का दिल जीत लिया और इसके साथ ही उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के फिल्म फेयर पुरस्कार के लिये नामांकित भी किया गया. वर्ष 1965 में प्रदर्शित फिल्म ‘आकाश दीप’ निम्मी की सिनेमा करियर की अंतिम फिल्म साबित हुई. इसके बाद उन्होंने फिल्म इंडस्ट्री से किनारा कर लिया. निम्मी ने अपने चार दशके लंबे कैरियर में लगभग 50 फिल्मों में अभिनय किया है.

करण जौहर एक बार फिर ला रहे है कियारा आडवाणी को नए अंदाज में, जल्द आ रहा है 'गिल्टी' का ट्रेलर

कपूर खानदान में छाया शोक, 23 वर्ष की उम्र में बेटे ने कहा दुनिया को अलविदा

संजय मिश्रा द्वारा अभिनीत फिल्म कामयाब का पहला पोस्टर हुआ आउट