एनआईए ने एचएम किश्तवाड़ की साजिश में हिज्ब-उल-मुजाहिदीन के तीन आतंकियों के खिलाफ दर्ज किया मामला

एनआईए ने तीन हिज्ब-उल-मुजाहिदीन आतंकवादियों के खिलाफ एनआईए विशेष अदालत, जम्मू के समक्ष आरोप पत्र दायर किया। तीनों आरोपी जाफर हुसैन पुत्र मो. अशरफ बट निवासी हुंजाला, किश्तवाड़, जम्मू-कश्मीर, दूसरा आरोपी तनवीर अहमद मलिक पुत्र स्वर्गीय जमाल दीन मलिक निवासी ग्राम तंतना, डोडा, जम्मू-कश्मीर और तीसरा आरोपी तारक हुसैन गिरी पुत्र गुलाम हुसैन, ग्राम पोछल किश्तवाड़ आरसी-08/2019/एनआईए/जेएमयू में जम्मू और कश्मीर। अपराध में शामिल अन्य तीन आतंकवादियों के खिलाफ तदनुसार आरोप दायर किया जाएगा। अन्य तीन का नाम ओसामा बिन जावेद है; हारून अब्बास वानी; जाहिद हुसैन सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में मारे गए हैं। 

प्रारंभ में सेवा हथियार छीनने से संबंधित मामला किश्तवाड़, जिला किश्तवाड़, जम्मू-कश्मीर के पुलिस स्टेशन में दिनांक 08.03.2019 को प्राथमिकी के रूप में दर्ज किया गया था। हथियार डीसी किश्तवाड़ के एस्कॉर्ट इंचार्ज का है। एनआईए ने 02.11.2019 को मामले को आरसी-08/2019/एनआईए/जेएमयू के रूप में फिर से पंजीकृत किया था और जांच अपने हाथ में ले ली थी। 

इसके अलावा, जांच में पता चला कि तात्कालिक मामला किश्तवाड़ में वर्ष 2018 - 2019 के दौरान हिज्ब-उल-मुजाहिदीन द्वारा किए गए कई आतंकवादी कृत्यों में से एक था। इन सभी आतंकी कृत्यों का उद्देश्य किश्तवाड़ में आतंकवाद को पुनर्जीवित करना था। उन्होंने हथियार लूटकर और समुदाय के बीच आतंक पैदा करने के लिए एक विशेष समुदाय के प्रमुख व्यक्तियों को निशाना बनाकर ऐसा किया। तीन आरोपी व्यक्ति ओसामा, हारून और जाहिद वर्ष 2019 और 2020 में विभिन्न स्थानों पर सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में मारे गए थे। वे डोडा-किश्तवाड़ बेल्ट में हिज्ब-उल-मुजाहिदीन (एचएम) के आतंकवादी थे और कई आतंक में शामिल थे। किश्तवाड़ में काम करता है जबकि अन्य आरोपी जाफर, तनवीर और तारक कई आतंकवादी घटनाओं में शामिल एचएम आतंकवादियों के लिए रसद सहायता प्रदान कर रहे थे और आश्रय का आयोजन कर रहे थे।

साबरमती से टकराया मवेशियों का झुंड, 4 की मौत

ट्रैन में सफर कर रहा था युवक, स्टेशन पर उतरते ही हो गई मौत

राज्य सरकार के ये आंकड़े कर देंगे आपको भी हैरान, कोरोना बच्चो को बना रहा अपना शिकार

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -