NGT ने बढ़ते प्रदूषण पर राज्य-केंद्र को लताड़ा

नई दिल्ली : दीपावली के बाद से ही दिल्ली में प्रदूषण को लेकर सतर्कता बरतने के निर्देश दिए जा रहे हैं। दरअसल दिल्ली में धुंए के आवरण का निर्माण इस कदर हो गया है कि यह सर्दियों में नज़र आने वाले कोहरे की तरह दिखाई दे रहा है। गौरतलब है कि पहले भी दिल्ली को प्रदूषित शहरों की श्रेणियों में शामिल किया जा चुका है। ऐसे में नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल की बात बेहद गंभीर मानी जा रही है। इस मामले में एनजीटी ने केंद्र सरकार और राज्य सरकार दोनों से ही सवाल किए हैं और दोनों को ही प्रदूषण न रोक पाने को लेकर जवाबदार बताया है।

एनजीटी द्वारा कहा गया है कि केवल बैठकें कर लेने से कुछ नहीं होगा। आपने प्रदूषण को कम करने के लिए क्या किया है। दिल्ली की सरकार ने कहा है कि दिल्ली में प्रदूषण के बढ़ने का प्रमुख कारण क्राॅप बर्निंग है। एनजीटी द्वारा कहा गया है कि शहर में न तो डीजल वाहनों को बंद कया गया है और न ही प्रदूषण बढ़ने पर इसे रोकने के प्रयास हो रहे हैं।

एनजीटी ने दिल्ली के अलावा उत्तरप्रदेश, हरियाणा, पंजाब और राजस्थान के साथ दिल्ली के पर्यावरण सचिवों को अपने पास बुलाया है और पूछा है कि आप प्रदूषण को कम किस तरह से कर रहे हैं। आप को तय करना होगा कि प्रदूषण कम करने के लिए आप क्या कर सकते हैं। गौरतलब है कि एनजीटी ने कहा है कि दिल्ली में कंस्ट्रक्शन से जुड़े लोग भी नियमों को अनदेखा करते हैं। कई बार कचरा तक जलाया जाता है ऐसे में प्रदूषण बढ़ रहा है।

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -