अमेरिकी सीडीसी ने गर्भावस्था के दौरान कोविड-19 वैक्सीन सुरक्षित रखने की सिफारिश की

अमेरिकी सीडीसी ने गर्भावस्था के दौरान कोविड-19 वैक्सीन सुरक्षित रखने की सिफारिश की

सीडीसी के निदेशक रोशेल वालेंस्की ने शुक्रवार को मॉडर्न और फाइजर-बायोएनटेक वैक्सीन पर एक नए अध्ययन का हवाला देते हुए कहा, "रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी)" गर्भवती लोगों को कोविड-19 वैक्सीन प्राप्त करने की सलाह देता है। द न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में प्रकाशित अध्ययन के लिए, टीम ने 35,000 से अधिक गर्भवती महिलाओं के डेटा का मूल्यांकन किया, जिन्होंने 14 दिसंबर से 28 फरवरी के बीच एमआरएनए के टीके प्राप्त किए। प्रारंभिक निष्कर्षों में कोई स्पष्ट सुरक्षा चिंता नहीं थी।

रोशेल वालेंस्की ने कहा, "महत्वपूर्ण बात यह है कि तीसरी तिमाही या बच्चों के लिए सुरक्षा चिंताओं में टीकाकरण के लिए कोई सुरक्षा चिंता नहीं देखी गई।" "जैसा कि, सीडीसी अनुशंसा करता है कि गर्भवती लोगों को कोविड-19 टीका प्राप्त होता है।" हालांकि, गर्भवती होने पर टीका लगाने का निर्णय "गहरा व्यक्तिगत" है। गर्भवती व्यक्तियों ने इंजेक्शन साइट पर दर्द को उनके गैर-प्रतिपक्ष समकक्षों की तुलना में अधिक बार बताया, लेकिन सिरदर्द, ठंड लगना, मांसपेशियों में दर्द और बुखार जैसे कुछ अनुवर्ती लक्षण देखने को मिले है। 

रिपोर्ट में कहा गया है कि अध्ययन अवधि के दौरान गर्भधारण करने वाले टीकाकरण करने वाले लोगों में प्रीटरम बर्थ और गर्भपात की दर सामान्य गर्भवती आबादी के समान थी। शोधकर्ताओं ने कहा- "प्रारंभिक निष्कर्ष गर्भवती व्यक्तियों के बीच स्पष्ट सुरक्षा संकेत नहीं दिखा, जो mRNA कोविड-19 टीके प्राप्त हुए।" "हालांकि, अधिक अनुदैर्ध्य अनुवर्ती, जिसमें गर्भावस्था में पहले से टीकाकरण की गई बड़ी संख्या में महिलाओं का पालन करना शामिल है, मातृ, गर्भावस्था और शिशु परिणामों की जानकारी देना आवश्यक है।"

कोरोना काल में भी ICICI बैंक को हुआ जबरदस्त मुनाफा, इतना रहा नेट प्रॉफिट

Reliance Industries और BP ने भारत के KG D6 ब्लॉक में दूसरा डीप वाटर गैस फील्ड किया शुरू

कोरोना से जूझ रहे भारत की मदद को आगे आए सुन्दर पिचाई, किया रिलीफ फंड का ऐलान