हिजबुल मुजाहिद्दीन : आखिर कौन है डॉक्‍टर सैफ ?

लॉकडाउन और कोरोना संक्रमण के बीच उत्‍तरी कश्‍मीर में हिजबुल मुजाहिद्दीन के कमांडर रियाज नायकू के मारे जाने के बाद अब कश्‍मीर में इस संगठन की कमान सैफुल्‍लाह मीर के हाथों में सौंपी गई है. उसे ये कमान इस आतंकी संगठन के आका और भारत की मोस्‍ट वांटेड लिस्‍ट में शामिल आतंकी सैयद सलाहउद्दीन ने सौंपी है. सैफल्‍लाह मीर को गाजी हैदर के नाम से भी जाना जाता है. गाजी के अलावा जफर-उल-इस्लाम को डिप्टी कमांडर और अबु तारिक को सलाहउद्दीन ने मिलिट्री एडवाइजर बनाया गया है.

कोरोना संकट के बीच सामने आई बड़ी लापरवाही, शमशान घाट में चिता बुझाकर शव ले गयी पुलिस

इसके अलावा सेना ने अब तक हिजबुल के कई कमांडरों को मारने में सफलता हासिल की है. अब भी जब गाजी को इसकी कमान सौंपी गई है तो भारतीय सेना ने अपने इरादे साफ कर दिए हैं कि वो भी अब धरती पर ज्‍यादा दिनों का मेहमान नहीं रहेगा.

देशभर में जारी है कोरोना का कहर, संक्रमितों की संख्या हुई 70 हजार से अधिक

आपकी जानकारी के लिए बता दे क सैयद सलाहउद्दीन ने जिस गाजी को इसकी जिम्‍मेदारी सौंपी है उसको वर्ष 2014 में रियाज नायकू ही आतंक की राह पर लेकर गया था. गाजी दक्षिण कश्‍मीर के पुलवामा जिले का रहने वाला है. 12वीं के बाद उसने वोकेशनल स्किल सीखी. इस संगठन में गाजी को मौसेब और डॉक्‍टर सैफ भी कहा जाता है. ये नाम उसको इसलिए दिया गया क्‍योंकि वो घायल आतंकियों का इलाज करने में भी बढ़चढ़कर हाथ बटाता रहा है.

मात्र 20 दिन की बच्ची ने जीती कोरोना से जिंदगी की जंग

यूपी में बढ़ रही कोरोना की मार, फिर नए मामले आए सामने

मरीजों की सेवा में जुटी हुई है नौ माह की गर्भवती महिला

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -