नई कारें हैकर्स के लिए है आसान टारगेट, जानिए रिपोर्ट

नई कारें हैकर्स के लिए है आसान टारगेट, जानिए रिपोर्ट

हैकर्स के लिए नई कारें आसान टारगेट और लोगों के लिए जानलेवा हो सकती हैं. ऐसा दावा अमेरिका के एक कन्ज्यूमर अडवोकेसी ग्रुप का है. दरअसल, ‘कन्ज्यूमर वॉचडॉग’ नाम के अमेरिकी कन्ज्यूमर अडवोकेसी ग्रुप (उपभोक्ता अधिकार सरंक्षक समूह) ने चेतावनी दी है कि कंपनियां इस समय जो कनेक्टेड कारें बना रही हैं, उन्हें आसानी से हैक किया जा सकता है. इन गाड़ियों पर बड़े पैमाने पर साइबर अटैक होने की स्थिति में हजारों लोगों की जान जा सकती है.‘किल स्विच: वाय कनेक्टेड कार्स कैन बी किलिंग मशीन्स ऐंड हाउ टू टर्न देम ऑफ’ शीर्षक से प्रकाशित नई रिपोर्ट में लॉस एंजिलिस स्थित ‘कन्ज्यूमर वॉचडॉग’ ने कहा कि कार को इंटरनेट से जोड़ने की परिपाटी बन गई है, लेकिन इससे राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरा पैदा होता है. रिपोर्ट में कहा गया कि औद्योगिक तकनीकों (इंडस्ट्री टेक्नॉलजी) की परेशानी यह है कि इन गाड़ियों की अहम सुरक्षा प्रणाली (सेफ्टी सिस्टम) बिना पर्याप्त सुरक्षा के इंटरनेट से जुड़ी है. साइबर हमले की स्थिति में कार की सुरक्षा प्रणाली को इंटरनेट से अलग नहीं किया जा सकता है. आगे पढ़े पूरी जानकारी विस्तार से 

Honda अपनी 1000 cc वाली इस मोटरसाइकिल को फिर से बाजार में कर सकती है प्रदर्शित

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि इंडस्ट्री एग्जीक्युटिव्स को इस खतरे की जानकारी है. इसके बावजूद वे इस टेक्नॉलजी को नई गाड़ियों में लगा रहे हैं और सुरक्षा के आगे मुनाफे को प्राथमिकता दे रहे हैं. यह रिपोर्ट कार इंडस्ट्री में कार्यरत 20 व्हिसलब्लोअर के साथ मिलकर पांच महीने तक की गई स्टडी पर आधारित है. कार इंडस्ट्री के टेक्नॉलजी एक्सपर्ट्स के ग्रुप का मानना है कि सबसे व्यस्त समय में केवल एक घंटे तक कार फ्लीट (कुछ कारों को एक साथ) को हैक करने की स्थिति में करीब तीन हजार लोगों की मौत हो सकती है. एक व्हिसलब्लोअर ने कहा, 'आप अपनी कार के विभिन्न हिस्सों को अपने स्मार्टफोन के जरिए नियंत्रित करते हैं. इसमें इंजन को स्टार्ट करना, एसी को स्टॉर्ट करना और लोकेशन की जांच करना आदि शामिल हैं. अगर आप स्मार्टफोन की मदद से कार कंट्रोल कर सकते हैं, तो कोई और भी इंटरनेट के जरिए यह कर सकता है.' 

बजाज पल्सर का लेटेस्ट वर्जन होगा कमाल, ये है संभावित लॉन्च डेट

अपने बयान में कंज्यूमर वॉचडॉग के अध्यक्ष जैमी कोर्ट ने कहा, 'सुरक्षा एवं अन्य महत्वपूर्ण सिस्टम को इंटरनेट से जोड़ने की परिपाटी खतरनाक है. अमेरिकी कार निर्माताओं को यह बंद करना चाहिए या कांग्रेस (अमेरिकी संसद) को हमारी परिवहन व्यवस्था और राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए कदम उठाना चाहिए.'इस रिपोर्ट में जनरल मोटर्स, टोयोटा और फॉर्ड सहित जिन कंपनियों का उल्लेख किया गया है,वे तत्काल प्रतिक्रिया देने के लिए उपलब्ध नहीं थी. हालांकि, वीइकल मैन्युफैक्चरर्स के गठबंधन की प्रवक्ता ग्लोरिया बर्गक्विस्ट ने कहा, 'ग्रुप की ओर से ऑटो इंडस्ट्री पर प्रकाशित रिपोर्ट लॉस वेगास में साइबर सिक्यॉरिटी पर होने वाले कार्यक्रम से पहले सनसनी पैदा करने की कोशिश है.'

Ather ने अपने इलेक्ट्रिक स्कूटर्स के दाम किए कम, ये है कारण

Suzuki मोटरसाइकिल को मिली मंदी मे बंपर सेल्स, जानिए कितनी हुई वृद्धि

2020 Triumph Rocket 3 बाइक ग्राहकों को बना देगी क्रेजी, फीचर्स कर देंगे हैरान