नई शुरुआत मीडिया के द्वार से..

नई शुरुआत मीडिया के द्वार से..

21वी सदी में मीडिया (प्रिंट व इलेक्ट्रॉनिक) की ताकत सबसे ज्यादा व प्रभावी है या नहीं यदि इसका सर्वे किया जाये तो 100 में से 110 % लोग हाँ कहेंगे | इसलिए नई शुरुआत मीडिया के द्वार से करना नैतिकता के आधार पर उचित लगता है और इस मार्ग से दो हाथ पैर व एक सिर वालो की रैली / महारैली / महारेला निकालने की नहीं जरुरत है, न अपने को बड़े बड़े सर्वे सर्वाहा कहने वालो व कहलाने वालो से विनती करके खून पसीने वाली शारीरिक जहदोदत के बाद संसद में पास कराने की और कई मामले अदालत में चलाये जाये तो जिंदगी भर तारीख गिनने और "देर है अंधेर नहीं" की माला जपते जपते बुढ़ापा निकालने की | दशहरे पर हर वर्ष रावण के पुतले के साथ साथ कुम्भकरण और मेगनाथ का पुतला जलाया जाता है | यह परंपरा इसलिए चली आ रही है क्यों की यह बुराइयो के ऊपर अच्छाइयों की जीत का प्रतिक है | प्रत्येक वर्ष मीडिया और अखबारों में इस दिन पुरे बड़े पेज और घंटो चलने वाला प्रोग्राम आता है | बड़े बड़े लेखो व स्टोरी में प्रत्येक चेहरे के आलावा रावण के प्रत्येक सिर को एक एक बुराई का नाम दिया जाता है | 

इस बार से नई शुरुवात यह है की मीडिया अपने अपने स्तर व प्रसारण के दायरे में 3 से 5 दिन पूर्व से एक अलग प्रोगाम चलाये | जिसके तहत प्रत्येक चेहरे के बुराई के आधार पर अपने साल भर के प्रकाशन में जिस व्यक्ति का नाम असामाजिक, अनैतिक, अपराध, बलात्कार, चोरी, घोटाले, रिश्वतखोरी, मिलावट, अमानवीयकृत इत्यादि इत्यादि में आता है (यदि बुराई ज्यादा हो तो चेहरे के आलावा शरीर के दूसरे हिस्सों पर भी बुराइयो का नामांकरण कर सकते है) उनके नाम की सुची अपने दर्शक और पाठक को दे और उनसे वोटिंग, चयन, SMS, इत्यादि के माध्यम से वोटिंग करवाये और दहशरे के दिन टॉप 5 - 5 लोगो का नाम प्रकाशित करे व दिखाए | इसके आलावा भगवान राम (छोड़कर) के इनको मारने के लिए प्रत्येक एक तीर पर अच्छाई का प्रतिक दे जैसे - नई दवाई, खोज, बहादुरी, सामाजिक कुर्तियों को खत्म करने की नई पहल, रिश्वतखोर को पकड़वाने का प्रयास, घोटाले खोजने वाले व्यक्ति, आर टी आई से सच उजागर करने वाले इत्यादि इत्यादि | आप सभी लोगो की यही राय होगी की अदालत जब तक दोषी नहीं ठहरा दे तब तक किसी का भी नाम इस तरह प्रकाशित नहीं कर सकते है | हम इस माध्यम से किसी को दोषी नहीं बता रहे अपितु जनता अख़बार, टीवी प्रोग्राम, पर दिखाए गए प्रमाणों, तथय एवं आप मे से ही चुने गए बुद्धिजीवो के विश्लेषण के आधार पर सर्वाधिक किसे दोषी मानती है वो बता रहे है | 

लोकतंत्र के प्रत्येक चुनाव से पहले एग्जिट पोल के माध्यम से लोगो की राय बताते है | सर्वाधिक धनी लोग, सबसे खुबशुरत व सेक्सी हीरोइन, सबसे बड़े दानी, सबसे बड़े ताकतवर पुरुष और महिला की सुची, सर्वाधिक सैलरी लेने वाले कर्मचारी, प्रत्येक बुराई पर राज्यों की लिस्ट, सबसे भ्रस्ट और रिश्वतखोर देशो की सुची इत्यादि इत्यादि को प्रकाशित कर रहे है | होली के त्येवहार सामाजिक रीती के समय लोगो को उनके नाम व टाइटल देने व पेरोडी गाने बनाने का रिवाज हमारे समाज और व्यवस्था में बहुत पुराने है मीडिया बुरा मत मानो होली है के बैनर तले इन प्रकाशित और प्रसारित भी करती है | चुनाव के समय इनका प्रयोग कुछ हद तक हो रहा है अब एक कदम और आगे बढ़ाना है | इसके आने से कम से कम मीडिया उन लोगो पर भी लगाम लगेगी जो जानबूझ कर मीडिया में आने के लिए उलटे सीधे तरीके इस्तेमाल करते है और आप के बच्चो को गलत मार्ग पर ले जाते है और गलत बुरे व असामाजिक कार्य करके प्रचार माध्यम से पब्लिसिटी प्राप्त करके देश में छा जाते है| 

अधिकांश लोग यही कहाँ चाह रहे होंगे की शुरुवात में तो सही है पर बाद में किसका नाम आये या नहीं उसे खरीद लिया जायेगा | हम सभी मीडिया की संस्था को दोषी नहीं कह सकते है और ऐसा कोई नहीं है जो पूरी मीडिया को खरीद ले | अपील / अनुरोध / सलाह / मार्गदर्शन /शुभ कामनाये / विनती :- आप स्वयं किसी अख़बार, पत्रिका, न्यूज़ चैनल, न्यूज़ वेबसाइट आदि के संस्थापक, संपादक व मैनेजमेंट के सदस्य है तो इसकी शुरुवात करे | यदि सहलाकार / पत्रकार, / कॉलम के लेखक इत्यादि है तो अपनी संस्था के पास इसको लागु करने के लिए भेजे | यदि आप मीडिया एवं इसके लिए 24 घंटे लगातार काम कर रहे लोगो के शुभचिंतक है तो उन्हें इन सन्देश को जरूर भेजे / शेयर करे / टाइम लाइन में डाले / रीट्वीट करे | 

यदि आप आम नागरिक है तो सविधान के अनुसार देश के मालिक होने का धर्म जरूर निर्वाह करे और मीडिया को ऐसा करने को अवश्य कहे | यदि आपको अपने कौशल व प्रोफेशनल में विश्वाश है तो उसके आधार पर विश्लेषण कर के इस उपाय / सोच को अधिक प्रभावी बनाने का सुझाव / सलाह / प्रस्ताव देना न भूले | इसमे अच्छे व बुरे कामो के नाम दे सकते है जो इसमें शामिल होने चाहिए | यदि आपको लगता है की सब कुछ सही है और आप पूर्णतया सुखी व समर्ध है तो व आपके देश व समाज एवं आस पास में किसी प्रकार की कोई समस्या नहीं है तो मौन रहकर बिना लाइक, शेयर, कमेंट लिखे अपनी स्वीकृति अवश्य दे |