भारत के साथ गतिरोध ख़त्म करने के लिए नेपाल ने गठित की टीम

Oct 10 2015 07:05 AM
भारत के साथ गतिरोध ख़त्म करने के लिए नेपाल ने गठित की टीम

काठमांडो : नेपाल ने आंदोलनकारियों द्वारा सीमा पर नाकेबंदी के कारण जरूरी सामान की किल्लत मचने बाद भारत के साथ राजनयिक गतिरोध को समाप्त करने के लिए विदेश मंत्री की अगुवाई में 3 सदस्यी टीम गठित की गई है। प्रधानमंत्री के आवास पर हुई मंत्री परिषद् की बैठक में समिति का गठन किया गया। इस समिति में विदेश मंत्री महेंद्र बहादुर पांडेय, मुख्य सचिव सोम लाल सुबेदी तथा वाणिज्य एवं आपूर्ति विभाग के सचिव नागेन्द्र प्रसाद उपाघ्याय शामिल हैं।

पांडेय ने पत्रकारों से बातचीत में कहा, हम भारतीय अधिकारियों के साथ जल्द से जल्द बातचीत शुरू करने से पहले नेपाल के भीतर विचार-विमर्श करेंगे। यह टीम पेट्रोलियम उत्पादों, LPG तथा दूसरी जरूरी वस्तुओं की सहज आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए भारतीय अधिकारियों के साथ बातचीत करेगी। माना जा रहा है कि काठमांडो आधारित अमेरिका और यूरोपीय राजदूतों के साथ बातचीत में पांडेय ने गतिरोध खत्म करने में उनकी मदद मांगी और यह कहा कि जरूरी सामानों की आपूर्ति प्रभावित होने की वजह से नेपाल मानवीय संकट से जूझ रहा है।

वही नेपाल दो प्रमुख हिंदू त्यौहारों विजय दशमी और दीपावली से पहले जरूरी वस्तुओं और पेट्रोलियम उत्पादों की किल्लत का सामना कर रहा है। इधर नेपाल ने दावा किया है कि भारत ने मधेसी पार्टियों के आंदोलन की आड़ लेकर अनाधिकारिक नाकेबंदी कर दी है जबकि भारत ने इस बात को ख़ारिज किया है। बता दे की विरोधो के बीच नेपाल का नया संविधान लागु किया गया था जिसके बाद से ही भारत और नेपाल के बीच में तल्खियों का माहोल बना हुआ है। सीमा पर नाकेबंदी के कारण जरूरी समानो की किल्लत से जूझ रहे नेपाल ने चीन के साथ खरीदी की बात कही थी।