स्टॉकहोम डायमंड लीग में नीरज बने मेडल के दावेदार

सत्र की दमदार शुरूआत करने के उपरांत ओलिम्पिक चैम्पियन भाला फेंक खिलाड़ी नीरज चोपड़ा डायमंड लीग में पहली बार पदक जीतने का पूरा प्रयास करने वाले है। नीरज चोपड़ा ने तुर्कु में पावो नुरमी खेलों में 89.30 का थ्रो फेंककर सिल्वर मेडल जीता और कुओर्ताने खेलों में 86.60 मीटर के साथ टॉप पर बने रहे। फिनलैंड में हुए इन दोनों टूर्नामेंटों में मुकाबला और भी ज्यादा कडा रहा है। कुओर्ताने में तो बारिश की वजह से फिसलन के कारण से तीसरे प्रयास में चोपड़ा गिर भी गए थे लेकिन तुरंत खड़े होकर चोटिल हुए बिना खिताब भी जीत लिया है।

ज्यूरिख में अगस्त 2018 में 85.73 मीटर थ्रो करके चौथे स्थान पर रहने के उपरांत चोपड़ा पहली बार डायमंड लीग में खेलने वाले है। वह 7 डायमंड लीग खेल चुके हैं जिनमें 3 2017 में और चार 2018 में खेली थी लेकिन जिसमे पदक नहीं जीत पाए। 2 बार चौथे स्थान पर बने हुए है। अमरीका में आने वाले माह होने वाली वर्ल्ड चैम्पियनशिप से पहले चोपड़ा के लिये यह सबसे बड़ा टूर्नामेंट है। इसमें टोक्यो ओलिम्पिक के तीनों पदक विजेता मैदान में होने वाले है।

मौजूदा दौर के भालाफेंक खिलाडिय़ों में सबसे अधिक बार 90 मीटर की बाधा पार करने वाले जर्मनी के जोहानेस वेटर चोट की वजह से बाहर चल रहे हैं। कुओर्ताने में गोल्ड मेडल जीतने के उपरांत चोपड़ा यहां से 100 किलोमीटर से भी कम दूरी पर स्थित उपसाला में अभ्यास कर रहे है। वह डायमंड लीग के बाद और 15 जुलाई से होने वाली विश्व चैम्पियनशिप से पहले कोई और टूर्नामेंट नहीं खेलने वाले है।

इंडिया के मुरली श्रीशंकर को भी इसमें लंबी कूद में भाग लेना था जो डायमंड लीग कार्यक्रम का भाग नहीं है लेकिन अतिरिक्त प्रतियोगिता के रूप में शामिल हो चुके है। वह हालांकि पहुंच नहीं पाएंगे क्योंकि विश्व चैम्पियनशिप के लिये वीजा औपचारिकताएं पूरी करने के लिए उनका पासपोर्ट दिल्ली में अमेरिकी दूतावास में है।

चेन्नईयिन एफसी ने ईरान के डिफेंडर के साथ किया नया एग्रीमेंट

सेरेना के हाथ से निकला साल का पहले मैच, विंबलडन से हुई बाहर

कप्तान पांड्या ने हर्षल-ईशान को बकी गाली ! देखें वायरल Video

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -