निर्भया केस : दोषियों के पास अंतिम बार परिजनों से मिलने का मौका, फांसी की तैयारी हुई शुरू

Feb 22 2020 11:06 AM
निर्भया केस : दोषियों के पास अंतिम बार परिजनों से मिलने का मौका, फांसी की तैयारी हुई शुरू

आगामी महीने मार्च की 3 तारिख को सुबह 6 बजे चारों दोषियों को सजा दी जाने वाली है. किसी भी प्रकार की समय की बर्बादी से बचने के लिए फांसी के मद्देनजर तिहाड़ जिला प्रशासन फिर सक्रिय हो गया है. तिहाड़ जेल से जुड़े अधिकारियों के मुताबिक, सभी चारों दोषियों (मुकेश सिंह, अक्षय कुमार, विनय कुमार शर्मा और पवन कुमार गुप्ता) को अपने परिजनों से अंतिम मुलाकात करने के लिए पत्र लिखा गया है. वहीं, जेल अधिकारियों ने दोषियों के परिजनों को भी पत्र लिखकर अंतिम मुलाकात के लिए बताने के लिए कहा है. मुकेश और पवन पहले ही अपने परिजनों से एक फरवरी से पहले मुलाकात कर चुके हैं. वहीं, अक्षय कुमार और विनय कुमार शर्मा को बताना है कि उनकी मुलाकात परिजनों से कब होगी? 

MP में पोस्टरबाजी के चलते बिगड़े कांग्रेस के हाल, समर्थकों ने सिंधिया को दी पार्टी छोड़ने की सलहा

इस मामले को लेकर जेल अधिकारियों का कहना है कि हाल ही में सभी चारों दोषियों के परिजनों को पत्र लिखकर फांसी की तारीख 3 मार्च से पहले मुलाकात करने के लिए समय बताने के लिए कहा है. अधिकारियों का कहना है कि परिजनों की सुविधा और जेल मैन्यूअल के हिसाब से जब चाहेंगे उनकी मुलाकात दोषियों से करा दी जाएगी. यह मुलाकात दोषियों और परिजनों दोनों का अधिकार है. नियमानुसार, आखिरी मुलाकात के बाद चारों दोषियों से केवल जेल अधिकारी या डॉक्टर ही मिल सकेंगे.

पंजाब : 200 यूनिट मुफ्त बिजली पर अमरिंदर सरकार ने लिया नया निर्णय

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि डेथ वारंट जारी होने के बाद ही तिहाड़ जेल संख्या तीन में फांसी की तैयारी तेज कर दी गई है. इस कड़ी में तिहाड़ जेल अधिकारियों ने उत्तर प्रदेश सरकार को पत्र लिखकर मेरठ से जल्लाद को भेजने के लिए कहा है. गौरतलब है कि दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने चारों दोषियों (विनय कुमार शर्मा, पवन कुमार गुप्ता, मुकेश सिंह और अक्षय सिंह ठाकुर) की फांसी के लिए डेथ वारंट जारी कर दिया है और चारों की फांसी की तैयारी भी चल रही है.डेथ वारंट के मुताबिक, आगामी 3 मार्च को सुबह 6 बजे तिहाड़ जेल में चारों को फांसी दी जानी है, लेकिन कानूनी पैंतरों में उलझने के चलते लगता नहीं कि 3 मार्च को चारों को फांसी हो पाएगी.

शाहीन बाग : बंद रास्ते खुलवाने के लिए वार्ताकारों ने अपनाया नया तरीका, महिलाओं से मिला समर्थन

विधायक वारिस पठान ने रैली में दिया था भड़काऊ बयान, कई धाराओं के तहत FIR दर्ज

मध्यप्रदेश : जनता के पैसे बर्बाद करने को लेकर राज्य सरकार से हाई कोर्ट ने मांगा जवाब