1984 सिख विरोधी दंगों पर सुप्रीम कोर्ट में दाखिल रिपोर्ट, पुलिस की स्थिति हो सकती है स्पष्ट

Jan 15 2020 01:57 PM
1984 सिख विरोधी दंगों पर सुप्रीम कोर्ट में दाखिल रिपोर्ट, पुलिस की स्थिति हो सकती है स्पष्ट

सुप्रीम कोर्ट में 1984 के सिख विरोधी दंगा मामले में जस्टिस ढींगरा ने अपनी रिपोर्ट दाखिल कर दी है. जस्टिस ढींगरा ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल अपनी रिपोर्ट में कहा है कि राज्य सरकार, अभियोजन पक्ष और पुलिस ने सही समय पर अपनी रिपोर्ट अपील अदालत में दाखिल नहीं की. इसकी वजह से मुकदमों के रिकॉर्ड नष्ट हो गए.

आर्मी डे : आर्मी चीफ नरवाणे ने अनुच्‍छेद 370 को बताया ऐतिहासिक फैसला, कहा-पाकिस्‍तान के साथ प्रॉक्‍सी वार....

इस मामले को लेकर जस्टिस ढींगरा ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि 10 मामलों में राज्य सरकारें अपील दाखिल करें. ये 10 वो FIR हैं जिनमें सभी आरोपियों को बरी कर दिया गया था. जस्टिस ढींगरा ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि दंगों के दौरान तत्कालीन SHO कल्याणपुरी ने दंगाइयों की मदद की थी.1984 सिख विरोधी दंगा मामले में जस्टिस ढींगरा की रिपोर्ट को आधार बना कर पीड़ितों ने सुप्रीम कोर्ट से गुहार लगाते हुए कहा है कि पुलिस ने इस मामले में दंगाइयों का साथ दिया है. साथ ही इस मामले में जस्टिस ढींगरा की सिफारिश के अनुसार अपील दाखिल होनी चाहिए. पुलिस वालों के खिलाफ कार्रवाई करने की सिफारिश की गई है.

विधानसभा चुनाव: दिल्ली में पार्टियों की बढ़ी मुश्किलें, तेज हुई तकरार

इसके अलावा अपने बयान में जस्टिस ढींगरा की रिपोर्ट पर सॉलिसिटर जनरल (एसजी) तुषार मेहता ने कहा है कि इस मामले में कानून के हिसाब से कार्रवाई की जाएगी. सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस एसए बोबडे ने कहा कि पीड़ित पक्ष अपनी अर्जी दाखिल कर सकते हैं जिसमें वो अपनी मांगों को रख सकते हैं. इस पर एसजी तुषार मेहता ने कहा कि हमनें जस्टिस ढींगरा की रिपोर्ट को स्वीकार कर लिया है. इस संबंध में कार्रवाई करेंगे.

शाहीन बाग़ में बढ़ा प्रदर्शन, शामिल हुए पंजाब से आए लोग

Weather Update: उत्तर भारत में भीषण बर्फबारी से बेहाल जनता, कई इलाकों में पर्यटक फंसे

एसडीएम शिवानी के भवानी अवतार ने माफिया की कमर तोड़ी, दबंगों पर एक्शन ने बनाया लोकप्रिय