बिहार में हो रहा राजनीति का कांटा दंगल, राकांपा-सपा ने बनाया तीसरा मोर्चा

बिहार में हो रहा राजनीति का कांटा दंगल, राकांपा-सपा ने बनाया तीसरा मोर्चा

पटना : इस बार बिहार में चुनाव के दौरान कई सारे दलों के उम्मीदवार मैदान में होंगे जिस कारण इसे राजनीति की कांटा दंगल कहा जा रहा है। केवल उम्मीदवारों का ही नहीं बल्कि बड़े-बड़े राजनेताओं का राजनीतिक जीवन दांव पर होगा। ऐसे में अब इस चुनाव में सपा और राकांपा ने एकजुट होकर चुनाव लड़ने का निर्णय लिया है। माना जा रहा है कि इस गठबंधन का सबसे ज़्यादा असर जदयूनीत जनता परिवार गठबंधन पर पड़ेगा। मिली जानकारी के अनुसार विधानसभा चुनाव में सीटों के बंटवारे में अन्य दलों को मोर्चे में सम्मिलित करने का निर्णय लिया गया। इस दौरान तीन सदस्यीय समिति नियुक्त की गई।

समिति में सपा द्वारा रघुनाथ झा, प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र सिंह यादव के साथ राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद पंवार ने इस गठबंधन पर रज़ामंदी दी है। तीसरे मोर्चे के गठन को लेकर पटना से दिल्ली तक बीते 3 से 4 दिनों से कोशिशें तेज कर दी गई हें। मामले में यह कहा गया है कि शरद पंवार और मुलायम सिंह के मध्य चर्चा हो चुकी है।

मामले में सपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और सांसद किरणमय नंदा की मौजूदगी प्रमुख रही। सपा और राकांपा ने सम्मिलित रूप से विधानसभा चुनाव मिलकर लड़ने की घोषणा भी की। माना जा रहा है कि तीसरे मोर्चे में पीए संगमा के नेतृत्व वाली नेशनल पीपुल्स पार्टी, पूर्व मंत्री नागमणि की समरस समाज पार्टी, सांसद पप्पू यादव की जन अधिकार पार्टी सहित विभिन्न पार्टियां तीसरे मोर्चे में शामिल होने को लेकर उत्सुक हैं। माना जा रहा है कि इन पार्टियों के नेता तीसरे मोर्चे में शामिल हो सकते हैं।