समर्पण करने वाले नक्सलियों को मिलेगा 1 करोड़ और बेहतर जीवन का तोहफा

Sep 16 2015 02:26 PM
समर्पण करने वाले नक्सलियों को मिलेगा 1 करोड़ और बेहतर जीवन का तोहफा

रांची : सरकार ने अब नक्सलवाद को समाप्त करने के लिए नया कदम उठाया है। इस दौरान सरकार दस्युओं की तरह समर्पण को प्राथमिकता देने में लगी है। नक्सलियों को सरकार ने समर्पण के लिए अलग तरह का आॅफर दिया है। जिसमें सरकार ने बताया कि समर्पण करने पर नक्सलियों को 1 करोड़ रूपए नकद और ओपन जेल की सुविधा दी जाएगी। इस मामले में नक्सलियों को समर्पण के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। हाल ही में इस मामले में मुख्यमंत्री रघुवर दास ने इस मामले में जानकारी दी। 

दरअसल मुख्यमंत्री की केंद्रीय कैबिनेट के साथ इस मसले पर बैठक हुई थी। नक्सलवाद को काबू में करने के लिए झारखंड के 24 जिलों में से करीबन 22 नक्सलियों का आतंक बताया गया है। इस बात को ध्यान में रखते हुए नक्सलियों द्वारा ओपन जेल को आधार बताया गया है। सरकार ओपन जेल में सुविधाऐं प्रदान कर रही हैं। 

मिली जानकारी के अनुसार जेल में 100 काॅटेज हैं जिनमें कैदी अपने परिजन को साथ में रखते हैं इस दौरान 92 काॅटेज रिक्त हैं। दरअसल 18 नक्सलियों ने आत्मसमर्पण कर दिया। जिसमें से 9 को अपने परिवार के साथ निवास करने की अनुमति दी गई। जेल के निर्माण में 3 करोड़ रूपए खर्च किए गए। मामले में कहा गया कि यह परिसर करीब 24 एकड़ में विस्तारित है। जिसमें 5 एकड़ जमीन का उपयोग कैदियों के लिए सामुदायिक कार्यक्रमों के साथ ही रोजगार की गतिविधियां चलाने और अन्य कार्यों  के लिए परिसर का उपयोग होता है।

इस दौरान कृषि कार्य भी किया जाता है। जेल में बेड रूम, बालकनी, किचन, टाॅयलेट व कोर्टयार्ड भी दिया गया है। झारखंड विद्युत बोर्ड ने ओपन जेल में 200 केवीए का ट्रांसफार्मर लगाया है। जिससे विद्युत आपूर्ति बहाल की जा सके। जेल में नक्सलियों को अच्छा नागरिक बनाने और उनके रोजगार के लिए आवश्यक कदम उठाने के प्रयास किए जा रहे हैं। यहां डेयरी फार्म खोले जाने की तैयारी भी की जा रही है। नक्सली चरकू पाहन ने उद्घाटन के समय आत्मसमर्पण कर अनोखा कदम उठाया। जिसकी जमकर सराहना की गई।