जरूरतमंद लोगों की सहायता के लिए लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला ने किया ये काम

Jun 04 2020 12:00 PM
जरूरतमंद लोगों की सहायता के लिए लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला ने किया ये काम

महामारी कोरोना वायरस से लड़ने के लिए लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला द्वारा कंट्रोल रूम स्थापित किए गए हैं. इसके जरिये 11 हजार लोगों की मदद की गई है. लोकसभा सचिवालय में स्थापित यह कंट्रोल रूम सांसदों और विधायकों के बीच समन्वय करते हुए राहत कार्यों का कार्य कर रहा है. बता दें कि लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला ने लॉकडाउन के दौरान सांसंदों और विधायकों के जरिये जरूरतमंदों की मदद के लिए लोकसभा सचिवालय में कंट्रोल रूम स्थापित कराया गया था. 27 अप्रैल से 31 मई तक इस कंट्रोल रूम  को कुल एक हजार कॉल प्राप्त हुई है.

प्रियंका वाड्रा ने योगी सरकार पर किया जुबानी हमला, कहा- व्यवस्था में कमी से भर्तिया अटकी...

इसके अलावा लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला ने 21 अप्रैल को राज्य विधानमंड़लों के पीठासीन अधिकारियों के साथ हुई वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान कंट्रोल रूम स्थापित करने पर विचार किया गया था. इसके निर्देश के बाद संसद भवन के लोकसभा सचिवालय में यहनियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया. इस कंट्रोल रूम के जरिये देशभर के सांसद  और विधायक के लिए जरूरतमंदों के लिए सामने आए. इसके जरिये राहत लोगों की मदद की जा रही है. 

आखिर क्यों नेपाल की सीमा पर हुआ जबरदस्त प्रदर्शन ?

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि इस वक्त पूरे देश में कोरोना संकट से छह हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं संक्रमितों का आंकड़ा दो लाख के पार पहुंच गया है. इस प्रकोप को देखते हुए देश में कोरोना वायरस लॉकडाउन लगा हुआ है. फिलहाल देश में पाचवें चरण का लॉकडाउन लगा हुआ है. इस लॉकडाउन में सरकार की तरफ से जरूरतमंद लोगों की मदद भी गई. देश के कोने-कोने में फंसे हुए लोगों की मदद के लिए स्पेशल फ्लाइट्स, ट्रेनें और बसें भी शुरू हो गई है. वंदे भारत मिशन और ऑपरेशन सेतु अभियान के जरिये भी लोगों की मदद की जा रही है. फिलहाल आम जनता के लिए 1 जून से ट्रेनें भी शुरू हो गई वहीं 25 मई से घरेलू उड़ानें भी शुरू हो गई है. ऐसे में धीरे-धीरे लोगों की जिंदगी पटरी पर आ रही है.

दिल्ली में विस्फोटक हुआ कोरोना, 24 घंटे में संक्रमण ने तोड़ दिए सारे रिकार्ड

अब ऐसे होंगे भगवान महाकाल के दर्शन, लागू की जाएंगी नई व्यवस्था

कोरोना ने देश को दिया बड़ा झटका, वायरस से हुई 6 हजार से अधिक मौतें