पाक ने मानी गलती, कहा : कारगिल वाॅर से घोंपा गया भारत की पीठ में छुरा

Feb 17 2016 09:09 AM
पाक ने मानी गलती, कहा : कारगिल वाॅर से घोंपा गया भारत की पीठ में छुरा

इस्लामाबाद ​: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने कारगिल युद्ध को लेकर आखिरकार अपनी ओर से यह स्वीकार कर ही लिया कि कारगिल युद्ध भारत की पीठ पर छुरा घोंपने वाला कदम रहा है। हाल ही में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने एक समाचार चैनल पर वार्ता के दौरान इस बात को स्वीकार किया है। मिली जानकारी के अनुसार पाकिस्तान के चैनल एआरवाई न्यूज़ पर 15 फरवरी को समाचार से संबंधित चर्चा की गई।

जिसमें नवाज शरीफ ने स्वीकार कर लिया कि कारगिल युद्ध के माध्यम से भारत को धोखा दिया गया था। प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने हाल ही में जनसभा को संबोधित किया और कहा कि कारगिल युद्ध भारत के शांति प्रयासों को धोखा देना था। हालांकि नवाज के शब्दों में शांति प्रयासों का उल्लेख नहीं था लेकिन तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के द्वारा दोनों देशों की वार्ता को लेकर किए जाने वाले प्रयासों को लेकर इसे शांति प्रयास ही कहा जाता है।

उनके कहने का अर्थ था कि जो प्रयास भारत के प्रधानमंत्री ने किए थे उसे कारगिल युद्ध से हताशा की ओर ले जाया गया। नवाज शरीफ ने कहा कि दोनों देशों के बीच में एक सीमा रेखा आ गई। मगर आप आलू और गोश्त खाते हैं यह तो हम भी खाते हैं। यह हमें बहुत पसंद है। भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की दोस्ती को याद करते हुए नवाज शरीफ ने यह भी कहा कि वाजपेयी साहब इस बात का गिला किया।

उनका कहना था कि जनाब एक तरफ तो लाॅ आॅफ डिक्लियरेशन हो रहा है और दूसरी ओर कारगिल का मिसएडवेंचर देकर पीठ में छुरा घोंप दिया गया। उन्होंने अपनी मजबूरी जाहिर की और कहा कि आखिर इस तरह का गिला किससे किया जाए। उल्लेखनीय है कि नवाज ने पाकिस्तान और भारत को लेकर होने वाली तनातनी और शांति वार्ता पर साफगोई से चर्चा की। उन्होंने अपनी मजबूरी जताते हुए कहा कि रब को सभी मानते हैं आखिर गिला उसी से करूंगा।