जानिए तीनों सेनाओं के सैल्यूट करने में क्या अंतर होता है

जानिए तीनों सेनाओं के सैल्यूट करने में क्या अंतर होता है

हम सब जानते है कि हमारे देश में 3 तरह की सेना है जल सेना, थल सेना और वायु सेना। जो दिन रात हमारे देश की रक्षा करती हैं, जिन्हें इस देश की आन बान और शान कहा जाता हैं। कई मौके पर इन तीनों सेनाओं द्वारा सैल्यूट करते देखा होगा लेकिन आपने कभी एक चीज ध्यान से देखी है कि तीनों सेना अलग - अलग तरह से सैल्यूट करती है। अगर नहीं जानते तो आज हम आपको बताते है कि जल, थल और वायु सेना कैसे सैल्यूट करते है और क्या अंतर होता है? आगे बढ़ने से  पहले आपको बता दें कि सैल्यूट का मतलब अपने से बड़े अधिकारियों को सम्मान देना होता है।

मध्यप्रदेश का किसान रातों रात बना मालामाल

थल सेना -  जिन्हें इंग्लिश में इंडियन आर्मी कहते है यह खुले हाथों से सैल्यूट करते है। इस तरह की उनके हाथ का पूरा पंजा दिखता है। उनकी सभी ऊंगलियां खुली रहती है और अंगूठा दोनों आईब्रो के बीच होना चाहिए। 

जल सेना - मतलब इंडियन नेवी। यह जवान भी खुले हाथों से सैल्यूट करते है लेकिन इन जवानों का पंजा थल सेना ​की तरह दिखता नहीं है बल्कि वह नीचे की तरफ होता है। ऐसा इसलिए क्योंकि पुराने जमाने में जब नेवी के जवान जहाज में काम करते थे तो उनके हाथ गंदे हो जाते थे तो वह अपने पंजे को छिपाकर सैल्यूट करते थे। बस तब से ही ऐसे सैल्यूट किया जा रहा है। 

73 हज़ार साल पुराने इंसान ने इस पत्थर पर बनाये चित्र, क्या है मतलब

वायु सेना - मतलब एयर फोर्स। यह सेना आर्मी की तरह ही सैल्यूट करते है लेकिन सैल्यूट के दौरान उनके हाथ से 45 डिग्री का कोण बनता है। इसका मतलब यह भी होता है कि वायु सेना आसमान की ओर अपने कदम को दर्शती है। 

यह भी पढ़ेंं

बिग बॉस के आगाज पर कटघरे में खड़े हुए सलमान

अपने काले धन से कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन तोड़ना चाहती है बीजेपी- के सी वेणुगोपाल

शादी का प्रस्ताव अपनाने पर कंपनी ने किया नौकरी से बाहर