पंजाब सीएम ने सिद्धू को सुनाई खरी-खोटी, कहा- 'शहीदों का दर्द नहीं समझ सकते सिद्धू'

14 फरवरी को पुलवामा के आतंकी हमले के बाद पंजाब सरकार में मंत्री और पूर्व क्रिकेटर नवोजत सिंह सिद्धू ने दिए अपने बयान के बाद से ही उनकी मुश्किलें बढ़ गई हैं. सिद्धू के इस बयान के बाद विरोधी दल तो उनके खिलाफ पहले से मोर्चा खोले ही बैठे है और साथ ही अब उन्हीं की पार्टी के नेता और पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी सिद्धू के बयान से किनारा कर लिया है. हाल ही में अमरिंदर सिंह ने सिद्धू के बयान को उनका निजी बयान बताया और साथ ही उन्होंने ये भी कहा है कि कांग्रेस पार्टी की लाइन इस पर अलग है.

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने इस बारे में कहा कि, 'लोकतंत्र में सभी को अपनी बात कहने का अधिकार है और किसी को रोका नहीं जा सकता. सिद्धू से करतारपुर कॉरिडोर के वक्त भी पाकिस्तान न जाने के लिए कहा था लेकिन वो नहीं माने.' कांग्रेस नेता ने आगे ये भी कहा कि, 'मैं एक सिपाही रहा हूं और सिद्धू एक क्रिकेटर रहे हैं, इसलिए सिद्धू जवानों की भावनाओं को नहीं समझ सकते. मैं सेना में रहा हूं और मुझे पता है कि जवानों की शहादत क्या होती है, लेकिन सिद्धू जवानों का दर्द नहीं समझ सकते. सिद्धू क्रिकेटर हैं और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री उनके दोस्त हैं, वो उनके साथ क्रिकेट खेला करते थे, हो सकता है उनकी सोच इस मुद्दे को लेकर अलग हो. लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि उनके मन में पुलवामा हमले को लेकर दुख न हो, पूरी पंजाब की जनता इसको लेकर दुखी है और चाहती है कि कोई कड़ा कदम उठाया जाए.'

इस दौरान सीएम से जब पाकिस्तान और आतंकवाद के बारे में सवाल किया गया तो इसके जवाब में उन्होंने कहा कि, 'जैश ए मोहम्मद को आईएसआई गाइड करती है. आईएसआई के चीफ है जनरल बाजवा जिन्होंने इमरान खान को प्रधानमंत्री मंत्री बनाया है, ऐसे में साफ है कि जैश का हर कदम पाकिस्तान सरकार के इशारों पर होता है.'

पुलवामा हमले के बाद भारत का बड़ा कदम, पाकिस्तान जाने वाली बस सेवा बंद

शहीदों के लिए आगे आए पंजाब के विधायक, देंगे अपना एक माह का वेतन

सारधा चिटफंड मामला: आज अदालत में पेश हुई कांग्रेस नेता पी चिदंबरम की पत्नी नलिनी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -