कुदरत में छिपे हैं सुंदरता के कई राज़, जानें और अपनाएं

कुदरत में छिपे हैं सुंदरता के कई राज़, जानें और अपनाएं

सुंदरता कुदरत की सबसे अनुपम देन होती है. इस सुंदरता को बरकरार रखने के लिए कुदरती प्राकृतिक चीजों से बढ़कर कुछ भी नही होता है. ब्यूटी प्रोडक्ट्स तो कई सारे मिलते है लेकिन प्रकृति से भी आपको कई सारी चीज़ें मिलती हैं जिन्हे आप अपना सकते हैं और अपनी सुंदरता बढ़ा सकते हैं. इन्हें अपनाने के लिए आपको कहीं जाने की भी जरूरत नहीं है. बल्कि आसानी टिप्स अपना सकते हैं साथ ही इनसे आपके चेहरे को कोई नुकसान नहीं होगा.  

* मुलतानी मिट्टी से स्नान करने से रोम रोम पूरी तरह खिल जाते हैं. मुलतानी मिट्टी से रगड़कर स्नान करने से जो लाभ होते हैं उनका एक प्रतिशत लाभ भी साबुन से स्नान करने से कतई नहीं होता.

* स्फूर्ति और आरोग्यता चाहने वालों को साबुन के प्रयोग से बचकर मुलतानी मिट्टी से नहाना चाहिए. मुलतानी मिट्टी या उसमें नींबू, बेसन, दही अथवा छाछ आदि मिलाकर शरीर पर थोड़ी देर लगाये रखें तो गर्मी से होने वाली तमाम बीमारियों को यह सोख लेता है. 

* अपने वेद और पुराणों से लाभ उठाकर जापानी लोग मुलतानी मिट्टी मिश्रित घोल में आधा घंटा टब बाथ करते हैं, जिससे उनके त्वचा व पित्त सम्बन्धी काफी रोग ठीक हुए हैं.

* यदि मुलतानी मिट्टी का घोल बनाकर शरीर पर लेप कर दिया जाए तथा 5-10 मिनट बाद रगड़कर नहाया जाए तो आशातीत लाभ होते हैं.

आँखों के लिए कारगर है गुलाबजल, करेगा दर्द दूर

चेहरे को धूल मिट्टी से बचाने में मदद करता एलो वेरा

पाचन तंत्र को कमजोर कर सकता है पापड़ का सेवन