हर व्यक्ति की सुरक्षा ही है राष्ट्र की सुरक्षा, इसलिए मनाया जाता है 'राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस'

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस आज यानि 4 मार्च 2019 को पूरे देश में मनाया जाता है. यह दिवस प्रतिवर्ष कार्यस्थलों पर सुरक्षा को बढ़ावा देने के लिए मनाया जाता है. इस दिन से एक सप्ताह तक चलने वाला सुरक्षा अभियान भी शुरू हो जाता है. वही सुरक्षा, स्वास्थ्य और पर्यावरण संबंधी सहायता सेवा के साथ उनको लाभ पहुंचाने के द्वारा उनके आर्थिक नुकसान और विभिन्न मानव समस्या सहित जीवन के घाटे को कम करने और बचाने के लिये वार्षिक आधार पर ये एक राष्ट्रीय आंदोलन है.

गुड़ फैक्ट्री में गन्ना पेराई करते समय मशीन में फंसा मजदूर का हाथ, मौत

ऐसे मनाया जाता है सुरक्षा सप्ताह 

जानकारी के लिए बता दें भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद एक स्वशासित संस्था है जो 8000 सदस्यों के साथ मुम्बई में सोसाइटी एक्ट के तहत 4 मार्च 1966 में स्थापित हुआ था. इस अभियान के द्वारा जरुरत पर आधारित क्रियाकलाप, कानूनी माँग के साथ स्व-अनुपालन और पेशेवर एसएचई गतिविधियों को कार्यस्थल पर कर्मचारियों के बीच बढ़ावा दिया जाता है. इसके अलावा, राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस, सप्ताह पूरे एक सप्ताह का सुरक्षा अभियान है जो 4 मार्च से 10 मार्च 2019 तक मनाया जायेगा.  

गैस ग्रिड परियोजना के लिए मंत्रालय ने प्रदान की 9000 करोड़ रुपये की स्वीकृति

अत्यंत आवश्यक है सुरक्षा 

हम आपको बता दें सुरक्षा हमारी वैधानिक एवं नैतिक जिम्मेदारी है। आजकल हर स्तर के व्यक्ति के लिए आवश्यकतानुसार सुरक्षा-प्रशिक्षण की व्यवस्था की जाती है। प्रशिक्षण के माध्यम से काम की जानकारी देना, सुरक्षा के प्रति जागरुकता पैदा करना और व्यक्तियों के चिंतन और व्यवहार में परिवर्तन लाना यह एक कठिन कार्य है। भले ही उन्हें जानकारी मिल जाती है, लेकिन मनोवृत्ति में परिवर्तन उतना आसान नहीं। इसलिये प्रशिक्षण या शिक्षा एक सतत प्रक्रिया है। इसे निरंतर चलाते रहना होगा।

यूपी में हुए सड़क हादसों में महिला कांवड़ यात्री समेत दो की मौत

शहीद विनोद कुमार को अंतिम विदाई देने बड़ी संख्या में पहुंचे लोग

कुंबले के हाथों आईसीसी की कमान, फिर अध्यक्ष नियुक्त

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -