छूट के दौरान 21 दिन होंगे काफी अहम, स्थिति तय करेगी लॉकडाउन की सीमा

देशव्यापी लॉकडाउन और कोरोना संकट के बीच केंद्र सरकार ने लॉकडाउन को 17 मार्च तक बढ़ाने का फैसला लिया है. इसके तहत पूरे देश के जिलों को रेड, ग्रीन और ओरेंज जोन में बांटा गया है. देश में लगातार बढ़ रहे कोरोना मामलों को खत्‍म करने के लिए ये कदम काफी अहम है. आपको बता दें कि इस फैसले को लेने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुछ दिन पहले ही राज्‍यों के मुख्‍यमंत्रियों से इस बारे में चर्चा की थी. इस अहम चर्चा में ज्‍यादातर का मानना था कि इसकी चेन को तोड़े बिना इसके बढ़ते मामलों पर लगाम लगाना मुश्किल होगा. ये चेन तभी टूट सकेगी जब लॉकडाउन की अवधि को कुछ और आगे बढ़ाया जाएगा.

ट्रेन और फ्लाइट में यात्रा के लिए अनिवार्य हो सकता है Aarogya Setu ऐप

आपकी जानकारी के लिए बता दे​ कि लॉकडाउन का दूसरा चरण 3 मई को खत्म हो रहा है. बता दें कि रेड जोन इलाका कोरोना वायरस का सबसे खतरनाक जोन माना गया है जबकि ओरेंज उससे कम और ग्रीन जोन जहां पर कोई भी व्‍यक्ति कोरोना वायरस से संक्रमित नहीं है. सरकार ने इसके लिए जो रोड़मैप तैयार किया है उसमें 21 दिन काफी अहम हैं.

Lockdown :ट्रेन से जा रहे मजदूरों को नहीं खरीदना होगा टिकट, राज्य सरकार से पैसे वसूलेगा रेलवे

वायरस के प्रकोप के बीच इस रोड़मैप के तहत जो जिले रेड जोन में आते हैं, वहां लॉकडाउन के बाद भी किसी भी प्रकार का ढील नहीं दी जाएगी. दूसरी तरफ ऑरेंज जोन में आने वाले इलाकों में लोगों को सशर्त घर से बाहर निकलने की इजाजत दी जाएगी. ग्रीन जोन वाले जिलों में लोगों को छूट तो होगी लेकिन यहां पर भी कुछ नियमों का पालन करना जरूरी होगा. इसमें एक दूसरे व्‍यक्ति से दूरी बनाए रखना, भीड़ एकत्रित न करना, मुंह पर मास्‍क लगाना आदि शामिल है. ऐसे इलाकों में संक्रमण न पनपने पाए इसको सुनिश्चित किया जाएगा. इसके लिए सभी नियमों को सख्ती के साथ लागू किया जाएगा.

सुशिल मोदी बोले- आने वाले दिनों में और बढ़ेगी स्पेशल ट्रेनों की संख्या

कोरोना की मार से तड़प रही राजधानी, पूरी दिल्ली में एक भी ग्रीन जोन नहीं

एक महिला ने 23 लोगों को कर डाला संक्रमित, मचा हड़कंप

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -