भारतीय सेना ने साफ शब्दों में किया आगाह, सोशल मीडिया पर कुछ संदिग्ध लोगों द्वारा फैलाई...

Dec 14 2019 12:12 PM
भारतीय सेना ने साफ शब्दों में किया आगाह, सोशल मीडिया पर कुछ संदिग्ध लोगों द्वारा फैलाई...

नागरिक संशोधन विधेयक 2019 को बीते दिनो संसद के दोनों सदनों में पास करा लिया गया है.  जिस पर राष्‍ट्रपति द्वारा मुहर लगाए जाने के बाद अब यह कानून का रूप ले चुका है. इस अधिनियम के खिलाफ पूर्वोत्‍तर राज्‍यों में विरोध प्रदर्शनों का सिलसिला जारी है. विरोध की आग भड़काने के काम में कुछ राष्‍ट्र विरोधी तत्‍वों के शामिल होने की बात भी सामने आ रही हैं. इसे देखते हुए सेना ने लोगों को सचेत रहने के लिए कहा है. 

गोवा के CM ने कहा- पर्रीकर ने मुझे उत्साहित किया, जिससे मैं 15-16 घंटे काम करता हूं...

इस मामले को लेकर भारतीय सेना ने एडवाइजरी जारी करते हुए लोगों से फेक न्‍यूज और झूठी सूचनाओं के प्रति सतर्क रहने की गुजारिश की है. सेना ने कहा है कि पूर्वोत्‍तर में उसकी कार्रवाई को लेकर सोशल मीडिया पर कुछ संदिग्ध लोगों द्वारा फैलाई जा रही फर्जी खबरों से सावधान रहने की जरूरत है. सेना के मुताबिक, लोग ऐसी झूठी खबरों पर ध्‍यान न दें. इस बीच, असम में हिंसक प्रदर्शन को नियंत्रित करने के लिए राजधानी गुवाहाटी में लगाए गए कर्फ्यू में शनिवार सुबह नौ बजे से शाम चार बजे तक ढील दी गई है.

पासपोर्ट विवाद: कांग्रेस ने 'भगवाकरण' का लगाया आरोप, क्या कमल वाकई भारत का राष्ट्रीय पुष्प है?

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि इस अवधि में विरोध प्रदर्शनों के कारण सुरक्षा व्यवस्था की स्थितियों को देखते हुए असम में सेना की कम से कम 26 टुकड़ियां तैनात की गई हैं. यही नहीं असम के 10 जिलों में मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को और अगले 48 घंटे तक के लिए निलंबित कर दिया गया है. असम के जिन जिलों में इंटरनेट सेवाओं को निलंबित रखा गया है उनमें लखीमपुर, तिनसुकिया, धेमाजी, डिब्रूगढ़, चराइदेव, शिवसागर, जोरहाट, गोलाघाट, कामरूप शामिल हैं.

CAB : प्रदर्शनकारियों ने ट्रेन को फूंका, रेलवे स्टेशन भी नही रह पाया सुरक्षित

कम घनत्व वाले वनों को वन न मानने पर कोर्ट ने लगाई रोक

जाकिर नाईक के अरमानों में लगी आग, इस देश ने भी घुसने से किया मना