देश का एकमात्र ऐसा हाईवे, जहाँ रात 9 बजे से थम जाते हैं पहिए

Jul 26 2019 02:47 PM
देश का एकमात्र ऐसा हाईवे, जहाँ रात 9 बजे से थम जाते हैं पहिए

नई दिल्ली: देश में एक ऐसा भी नेशनल हाईवे है, जहां रात नौ के बजते ही गाड़ियों के पहिए रुक जाते हैं. कारण यह है कि इस हाईवे पर रात नौ बजे से सुबह छह बजे तक बैन लग जाता है. इस मुद्दे को लेकर गुरुवार को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने लोकसभा में सवाल किया. जिस पर सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने अपने लिखित जवाब में कहा कि रात्रि यातायात पर लगी रोक बरक़रार रहेगी.

केरल और कर्नाटक को जोड़ने वाले नेशनल हाईवे -212 की पहचान अब नेशनल हाईवे 766 के रूप में तब्दील हो गई है. यह हाईवे कुल 212 किमी है. इस हाईवे पर रात में यातायात बैन करने के पीछे हादसों में जानवरों की मौत की घटनाएं रहीं. कई शिकायतों के बाद दस वर्ष पूर्व  रात्रिकालीन यातायात बंद किया गया था. राहुल गांधी ने पूछा था कि बांदीपुर राष्ट्रीय उद्यान से होकर गुजरने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग-212 पर रात्रि यातायात पर बैन लगा है. क्या केंद्र सरकार वन्यजीवों को परेशान किए बगैर इस बैन को हटाने के लिए किसी विकल्प पर विचार कर रही है?

लोकसभा में जवाब देते हुए नितिन गडकरी ने कहा कि जिला कलेक्टर, चारमराज नगर ने राष्ट्रीय राजमार्ग पर रात नौ बजे से सुबह छह बजे तक यातायात पर तीन जून 2009 को बैन लगा दिया था. जिसे कर्नाटक हाई कोर्ट ने नौ जनवरी 2010 को सही करार दिया था. बाद में केरल के परिवहन विभाग ने विशेष अनुमति याचिका दाखिल कर कर्नाटक हाई कोर्ट के फैसले को सर्वोच्च न्यायालय में चुनौती दी. जिस पर सर्वोच्च न्यायालय ने सचिव सड़क परिवहन और राजमार्ग की अध्यक्षता में एक विशेषज्ञ समिति गठित की थी, जिसने इस रोक को बरक़रार रखने का फैसला लिया था.

दिल्ली हाई कोर्ट ने ख़ारिज की वंदे मातरम् को राष्ट्रगान का दर्जा देने की मांग करने वाली याचिका

ईरान द्वारा पकड़े गए पोत में सवार 9 भारतीय रिहा, तीन अब भी गिरफ्त में

कुलभूषण जाधव को काउंसलर एक्सेस मिलने की तैयारी शुरू