भोपाल गैस त्रासदी : जहरीले रासायनिक कचरे ने बढ़ाई चिंता, 35 साल बाद भी परिणाम भु​गत रहे लोग

Dec 03 2019 12:05 PM
भोपाल गैस त्रासदी : जहरीले रासायनिक कचरे ने बढ़ाई चिंता, 35 साल बाद भी परिणाम भु​गत रहे लोग

कई सालों पहले हुए भोपाल गैस त्रासदी में यूनियन कार्बाइड कारखाने में पड़े 340 टन जहरीले कचरे को 35 साल में भी नष्ट नहीं किया जा सका है. यह आसपास के 4 किलोमीटर के दायरे में भूमिगत जल व मिट्टी को प्रदूषित कर चुका है. इसके कारण रहवासियों को गंभीर बीमारियां हो रही हैं. इस कचरे की वजह से आसपास की 42 कॉलोनियों के भूमिगत जल स्रोतों में हानिकारक रसायन का स्तर बढ़ा है. पहले ये रसायन 36 कॉलोनियों के भूमिगत जल तक ही सीमित थे. भारतीय विष विज्ञान संस्थान की रिपोर्ट में इसकी पुष्टि हुई है.

छत्तीसगढ़ : सीएम भूपेश बघेल ने दिया बड़ा बयान, कहा-जिम्मेदार कर्मियों के खिलाफ...

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि यूनियन कार्बाइड की मालिक कंपनी डॉव केमिकल के कारखाने में 340 टन जहरीला कचरा पड़ा है. इसे डेढ़ साल पहले नष्ट करने की प्रक्रिया इंदौर के पीथमपुर में शुरू हुई थी. 10 टन कचरा नष्ट भी किया गया था. उसके बाद से प्रक्रिया रुकी है. भोपाल ग्रुप फॉर इन्फार्मेशन एंड एक्शन के सदस्य सतीनाथ षष़़डंगी का कहना है कि 10 टन कचरे के निपटान के बाद राज्य सरकार चाहती है कि केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड नष्ट किए गए कचरे की रिपोर्ट तैयार करे और आगे भी निपटान की कार्रवाई खुद की निगरानी में करें. जबकि, केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड चाहता है कि स्थानीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड व सरकार जहरीला कचरा नष्ट कराए। इस उलझन के कारण कचरा नष्ट नहीं हो पा रहा है.

पाकिस्तान: करतारपुर साहिब में दर्शन करने गई सिख लड़की तीन दिन बाद मिली, 4 पाकिस्तानी युवक गिरफ्तार

इस मामले को लेकर गैस पीड़ित संगठनों का आरोप है कि यूनियन कार्बाइड कारखाना परिसर में करीब 20 हजार टन जहरीला कचरा दबाया गया है. इसके अलावा 21 स्थानों पर गढ्डे खोदकर उनमें कारखाने से निकलने वाला अपशिष्ट दबाया गया था, इसलिए अकेले 340 टन कचरे की बात करने से कुछ नहीं होगा. भोपाल ग्रुफ फॉर इन्फार्मेशन एंड एक्शन के सदस्य सतीनाथ षडंगी का कहना है कि इस कचरे को हटाने के लिए कारखाना के आसपास 5 किलोमीटर के दायरे में वैज्ञानिक अध्ययन किया जाए और कचरे को हटाने की प्रक्रिया शुरू की जाए, तब ही भोपाल की मानव जाति व प्रकृति का भला होगा.

अयोध्या राम मंदिर: ट्रस्ट के गठन से पहले ही पुजारी बनने के लिए शुरू हुई जंग, पीएम मोदी को भेजा गया पत्र

इन हॉलीवुड फिल्मों ने भारत में की दमदार कमाई, सबसे टॉप पर 'मार्वल एवेंजर'

इन देशों में दुष्कर्म की खौफनाक सजा, दोषियों के जननांगों...