JNU जैसे मामलों में अगर समाज मूक रहेगा, तो राष्ट्र नहीं बच पाएगा

Jun 01 2016 11:10 AM
JNU जैसे मामलों में अगर समाज मूक रहेगा, तो राष्ट्र नहीं बच पाएगा

पुणे : आज पूरा विश्व भारत की ओर उम्मीद भरी नजरों से देख रहा है। ये बातें भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने कही। पुणे में आयोजित एक कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे डोभाल ने अपने संबोधन में कहा कि किसी भी चीज को करने और पाने के लिए इच्छाशक्ति की आवश्यकता होती है। यदि इसे राष्ट्र के संदर्भ में देखा जाए, तो राष्ट्रशक्ति की जरुरत होती है।

जेएनयू विवाद पर अपनी तीखी प्रतिक्रिया देते हुए डोभाल ने कहा कि जब कोई व्यक्ति कुछ नहीं करता और कहता है कि भारत तेरे टुकड़े होंगे, इंशाल्लाह इंशाल्लाह, ऐसे समय में मूक बने रहना भी देश को बर्बाद करने जैसा ही है। जब लोग ऐसी बातें कहते है तो उनके खिलाफ सामाजिक प्रक्रिया होना आवश्यक है।

ऐसे मामलों में अगर समाज चुप बैठा रहेगा, तो राष्ट्र नहीं बच पाएगा। एनआईए चीफ ने कहा कि आज भारत 125 करोड़ लोगों का तो पेट भर ही रहा है, साथ ही दूसरे देशों के लोगों का भी पेट भर रहा है।