जन्मदिन विशेष : शादी शुदा होने के बाद भी आशा पारेख से प्यार कर बैठे थे आमिर खान के चाचा

बॉलीवुड के मिस्टर परफेक्सनिस्ट Aamir khan आज जी तरह से फेमस हैं ठीक तरह कभी आमिर के चाचा Nashir Hussen का भी जलवा था. उनके बारे में बता दें, वो एक स्क्रीनराइटर, प्रोड्यूसर और डायरेक्टर नासिर हुसैन अच्छी फिल्मों के लिए जाने जाते थे. 70-80 के दशक की उनकी कई फिल्में आज भी याद की जाती हैं. आज उनके जन्म दिन विशेष पर आइए जानते हैं नासिर से जुड़े कुछ अनजाने सीक्रेट्स.

वर्ष 1948 में नासिर हुसैन ने कमल जलालाबादी से के साथ बतौर राइटर अपने कॅरियर की शुरुआत की थी. उन्होंने कई हिट फिल्में लिखीं जिनमें 'अनारकली' (1953) और 'पेइंग गेस्ट' (1957) थीं. बतौर डायरेक्टर नासिर हुसैन की पहली फिल्म 'तुमसा नहीं देखा' (1957) थी. फिल्म में शम्मी कपूर की मुख्य भूमिका थी. इनसे वो काफी फेमस हुए. 

इसके अलावा वर्ष 1959 में नासिर हुसैन ने शम्मी कपूर और आशा पारेख को लेकर फिल्म 'दिल देके देखो' बनाई थी. आशा ने 17 साल की उम्र में इस फिल्म से बॉलीवुड में कदम रखा था. इसके बाद आशा ने नासिर के साथ कई फिल्मों में काम किया. 

काम के दौरान आशा और नसीर दोनों एक-दूसरे से प्यार कर बैठे. बता दें नासिर पहले से शादीशुदा थे, लेकिन आशा पारेख उनकी प्यार में पड़ गईं. लेकिन वो नहीं चाहती थीं उनकी वजह से किसी का घर टूटे. इसलिए लंबे समय के बाद आशा पारेख ने इस रिश्ते को खत्म कर दिया.

इतना ही नहीं, एक इंटरव्यू के दौरान आशा पारेख ने कबूल किया था कि उन्होंने जिंदगी में सिर्फ नासिर हुसैन से ही प्यार किया. नासिर से रिश्ता टूटने के बाद उन्होंने कभी शादी नहीं की. 

आमिर के चाचा थे नासिर हुसैन
जानकारी दे दें, नासिर हुसैन रिश्ते में बॉलीवुड अभिनेता आमिर खान के चाचा थे. उनके बेटे मंसूर खान ने ही आमिर के लिए फिल्म 'कयामत से कयामत तक'(1988) और 'जो जीता वही सिंकदर' (1992) डायरेक्ट की. यह दोनों फिल्में आमिर के कॅरियर के लिए हिट साबित हुई. नासिर का निधन 2002 में मुंबई में दिल का दौरा पड़ने से उनका निधन हो गया.

विक्की कौशल ने कर ली बर्थडे प्लानिंग, यहां दोस्तों के साथ करेंगे हार्ड पार्टी

आमिर खान की खास बर्थडे विश से गदगद हुई सनी लियॉन, लिखा ये नोट

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -