भूकंप के झटकों से फिर दहला 'मंगल', एक महीने में तीसरी बार काँपा 'लाल ग्रह'

नई दिल्ली: धरती की तरह ही मंगल (Mars) ग्रह पर भी भूकंप आते हैं. अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी NASA के इनसाइट लैंडर (InSight Lander) ने हाल में ही मंगल पर भूकंपीय झटकों के बारे में जानकारी दी है. मंगल ग्रह की सतह पर पहुंचे इनसाइट लैंडर ने सतह के नीचे कुछ गड़गड़ाहट की ध्वनि रिकॉर्ड की है. NASA ने अब मंगल पर सबसे बड़े और सबसे लंबे समय तक चलने वाले भूकंप का पता लगाया है जिसकी तीव्रता 4.2 दर्ज की गई है. मंगल ग्रह को हिलाने वाला ये भूकंप तक़रीबन डेढ़ घंटे तक चला.

18 सितंबर को आया ये भूकंप इनसाइट लैंडर द्वारा सिर्फ एक माह में दर्ज की गई इस तरह की तीसरी बड़ी घटना है. इससे पहले इनसाइट लैंडर ने 25 अगस्त को अपने सीस्मोमीटर पर 4.2 और 4.1 तीव्रता के दो भूकंपों का पता लगाया था. NASA ने कहा है कि 18 सितंबर को आया 4.2 तीव्रता का भूकंप पिछले भूकंपों से पांच गुना अधिक शक्तिशाली था. इससे पहले 2019 में मंगल पर 3.7 तीव्रता से भूकंप के झटके आए थे. 

वैज्ञानिकों के मुताबिक, भूकंप इनसाइट लैंडर के वर्तमान स्थान से तक़रीबन 8,500 किलोमीटर दूर आया था. जो लैंडर द्वारा अब तक खोजा गया सबसे अधिक दूरी का भूकंप है. वैज्ञानिक अब उस भूकंप के केंद्र का पता लगाने का प्रयास कर रहे हैं, जो उस जगह से बहुत दूर हुआ था, जहां से इनसाइट लैंडर ने मंगल की सतह पर हुए पिछले तमाम बड़े भूकंपों का पता लगाया था.

रायमोना नेशनल पार्क के 57 अवैैध शिकारियों ने किया आत्मसमर्पण, असम सरकार ने दी आर्थिक मदद

इंटरनेशनल डे ऑफ़ साइन लैंग्वेज: उन लोगों की 'भाषा', जो अपने कानों से नहीं सुन सकते

भारत-बांग्लादेश सीमा पर पशु तस्कर और बीएसएफ जवानों के बीच मुठभेड़, एक की मौत

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -