मोदी ने सैयद अली को भेंट की दुर्लभ पांडुलिपि

तेहरान : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने ईरान दौरे के दौरान ईरान के सर्वोच्च नेता सैयद अली खमनेई को पवित्र कुरान की सातवीं सदी की एक दुर्लभ पांडुलिपि उपहार स्वरूप भेंट की है. बता दे कि यह ना केवल कुफिक लिपि में लिखी हुई है बल्कि साथ ही इसका श्रेय चौथे इस्लामी खलीफा और पहले शिया इमाम हजरत अली को दिया जाता है.

इसके अलावा यह बात भी सुनने को मिली है कि मोदी ने ईरान के राष्ट्रपति हसन रुहानी को मिर्जा गालिब की एक कविता संग्रह भी भेंट की है. बताते चले कि मोदी ने रुहानी को फारसी भाषा में अनुवादित सुमैर चंद की ओर से लिखी गई रामायण की कॉपी भी भेंट की है.

इसके पहले नरेंद्र मोदी के द्वारा पंचतां की फारसी में अनुवादित कॉपी भी जारी की गई है. बताया जा रहा है कि इसमें भारत और ईरान के बीच के सांस्कृतिक संबंधों का जिक्र किया गया है. मालूम हो कि मोदी और रूहानी के द्वारा द्विपक्षीय वार्ता के अंतर्गत आपसी हित में अन्य कई मुद्दों पर चर्चा को अंजाम दिया गया है. इसके अलावा यह भी सुनने में आ रहा है कि शिष्टमंडल स्तर की वार्ता के दौरान दोनों के द्वारा बढ़ती अस्थिरता, कट्टरपंथ और आतंकवाद के विषय पर भी चर्चा की गई.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -