नाख़ून भी है हेल्थ इंडिकेटर

यह बात बहुत पहले सामने आ चुकी है कि बहुत सी बीमारियों में नाखूनों का रंग बदलने लगता है। हम नाखूनों का रंग देखकर तमाम बीमारियों का भी पता लगा सकते हैं। कई बार नाखूनों का रंग, उन पर पड़ी धारियां, नाखूनों का मोटा-पतला होना आदि बातें एक से अधिक रोगों में भी देखने को मिलती हैं।

अगर आपके नाख़ून फीके और सफ़ेद हैं तो आपके खून में रेड ब्लड सेल्स कम बन रही हैं। इसलिये आपको आयरन से भरे खाद्य पदार्थों को खाने की जरुरत है। धंसे या फिर उभरे हुए नाखून सिरोसिस की तरफ इशारा करते हैं । आप देखेंगे कि आपके नाखून विभाजित या एक धंसे हुए हैं। ऐसा खासतौर पर पैरों के नाखूनों में दिखेगा। ऐसा तब भी होता है जब गठिया या थायरॉयड की बीमारी हो।

अगर नाखूनों का रंग लाल है तो आपको दिल संबंधी शिकायतें हो सकती हैं। यह हाई ब्लडप्रेशर का संकेत हो सकता है। इससे आपके हार्ट को काफी ज्यादा रिस्क हो सकता है। नीले रंग के नाख़ून इस बात की तरफ इशारा करते हैं की आपकी बॉडी के हर पार्ट में ऑक्सीजन नहीं पहुँच पा रहा है। ऐसा किसी सांस की बीमारी या नाड़ी समस्या की वजह से होता है। नाखून टूट जाएं, रूखे और बेजान दिखें तो आपको थायरॉयड टेस्ट करवाना चाहिये। हाई लेवल का थायरॉयड नाखूनों को जड़ से भी निकाल सकता है।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -